खबर भविष्यकाल स्टार्टअप्स

Ola और Mahindra ने नागपुर में किया भारत के पहले ‘इलेक्ट्रिक वाहन बेड़े’ का शुभारंभ

देश में इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रचलन के दृष्टिकोण को बढ़ावा देते हुए, स्वदेशी टैक्सी सेवा प्रदाता, Ola ने आज नागपुर में अपने बहुआयामी इलेक्ट्रिक वाहन बेड़े का शुभारंभ करने की घोषणा की है | यह पायलट प्रोजेक्ट कंपनी के इलेक्ट्रिक वाहन संबंधी महत्वाकांक्षाओं के समानांतर चलाता है |

Ola ने नागपुर में अपना पायलट प्रोजेक्ट लॉन्च करने के लिए Mahindra  और सरकार के साथ भागीदारी की है | माना जा रहा है कि यह इलेक्ट्रिक वाहन कार्यक्रम भारत में पहली बार हो रहा है और वर्तमान में इसमें 200 वाहनों का एक विशाल बड़ा शामिल किया जाएगा | इसमें टैक्सियों, बसों, ई-रिक्शा और ऑटो सहित सब कुछ शामिल है |

200 इलेक्ट्रिक वाहनों में से, Mahindra ने ऑपरेशन शुरू करने के लिए Ola को लगभग 100 e20 प्लस वाहन प्रदान कियें हैं | Mahindra, Tata, Kinetic, BYD, और TVS सहित बड़े OEM भागीदारों द्वारा बाकी सभी बेड़े की खरीद की जा रही है | Ola ने दावा किया है कि उसने अपने इलेक्ट्रिक वाहन बेड़े का निर्माण करने के लिए ₹50 करोड़ के आसपास का निवेश किया है और नागपुर के चार अलग-अलग स्थानों पर 50 चार्जिंग स्टेशन स्थापित किए हैं |

लॉन्च पर बोलते हुए Ola के सह-संस्थापक और सीईओ, भाविष अग्रवाल ने एक बयान में कहा,

“ भारत की गतिशीलता आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए विद्युत दायित्व संबंधी एक वैश्विक उदाहरण स्थापित करने की देश की क्षमता और जरूरत दोनों है, हम मानते हैं कि बहु-मॉडल प्रारूप में इलेक्ट्रिक वाहन अरबों लोगों के लिए एक सुचारू साधन बनकर उभरेगा ”

विस्तारित साझेदारी के बारे में बात करते हुए, Mahindra & Mahindra के प्रबंध निदेशक पवन गोयनका ने कहा,

“ ‘मेक इन इंडिया’ की भावना के मुताबिक, हम सरकार के साथ भारत में इस बदलाव का नेतृत्व करेंगे, यह पायलट प्रोजेक्ट इलेक्ट्रिक वाहनों को व्यापक तौर पर विस्तार के लिए एक आयाम मुहैया कराएगा ”

इस परियोजना का उद्घाटन महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री देवेंद्र फडणवीस और सड़क परिवहन, राजमार्ग और जहाजरानी मंत्री, भारत सरकार नितिन गडकरी द्वारा किया गया |

परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने Ola की प्रमुख उपलब्धि पर टिप्पणी करते हुए कहा,

“ ट्रांसपोर्ट इंफ्रास्ट्रक्चर और ईंधन निर्भरता पर फिर से सोचने का वक़्त है, Ola और Mahindra जैसी भारतीय कंपनियां सरकार के दृष्टिकोण को आगे बढ़ाने और एक टिकाऊ गतिशीलता प्रदान करने के लिए एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र बनाने में सहायता कर रहीं हैं, जो काफ़ी ख़ुशी की बात है, मैं कार्बन उत्सर्जन को कम करने के 2030 के दृष्टिकोण को एक वास्तविकता का आयाम प्रदान करने के लिए उनके साथ काम करने की आशा करता हूं ”

यह पायलट प्रोजेक्ट न केवल देश में एक इलेक्ट्रिक वाहन पारिस्थितिकी तंत्र की स्थापना में योगदान करेगा बल्कि साथ ही साथ बुनियादी ढांचे के लिए आवश्यक बढ़ावा भी देगा | इलेक्ट्रिक वाहन मालिकों के लिए सबसे बड़ी चिंताओं में से एक चार्जिंग सुविधाओं का बुनियादी ढांचा है और Ola ने अब उसी पर ध्यान केन्द्रित किया है |

कंपनी ने नागपुर एयरपोर्ट परिसर के पास अपना पहला इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन खोला है, जिससे ड्राइवर एक अलग छत के नीचे सभी विभिन्न प्रकार के वाहनों को चार्ज कर सकते हैं | इसमें कोई बात नहीं है कि ड्राइवर को स्टेशन पर अपने वाहनों को चार्ज करना होगा या इसके साथ ही अपने घरों के आराम से भी ऐसा कर सकते हैं। यह कदम देश में इलेक्ट्रिक वाहनों के भविष्य की नींव रखता है और भारत में कदम आगे बढ़ाने के लिए अग्रणी इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता Tesla को भी समर्थन देता नज़र आता है |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन