ई-कॉमर्स खबर

Morgan Stanley Fund ने Flipkart का मूल्यांकन 28% तक बढ़ाया

एक संघर्षरत वर्ष के बाद, Flipkart अपने कठिन समय को पीछे छोड़ने में कामयाब नज़र आ रही है | अपने $1.4 बिलियन फंडिंग दौर के बाद, कंपनी अब निवेशकों से अपने मूल्यांकन में वृद्धि देख रही है |

BloombergQuint की रिपोर्ट के अनुसार, Morgan Stanley द्वारा प्रबंधित एक म्यूचुअल फंड ने इस ऑनलाइन रिटेलर के मूल्यांकन को लगभग एक तिहाई तक बढ़ा दिया है | Morgan Stanley Institutional Fund ने Flipkart में अपने शेयरों की कीमत मार्च के मुकाबले 70.7 डॉलर प्रति शेयर की है, जो कि दिसंबर की तुलना में 28 फीसदी बढ़ोतरी है | यह ख़बर U.S. Securities और Exchange Commission (SEC) के हवाले से प्राप्त हो सकी |

कंपनी के शेयर मूल्यांकन में नवीनतम वृद्धि ने इसके मूल्यांकन को $6.91 बिलियन कर दिया है | मूल्यांकन में बढौतरी के बाद भी यह 11.6 बिलियन डॉलर के मुकाबले 40 फीसदी कम है, जिस पर कंपनी ने Tencent Holdings Ltd., eBay Inc. और Microsoft Corp से $1.4 बिलियन का निवेश हासिल किया था |

पिछले साल Morgan Stanley द्वारा प्रबंधित एक फंड की वजह से पहली बार Flipkart के मूल्यांकन में गिरावट दर्ज़ की गई थी |

हालांकि, Flipkart एकलौता भारतीय स्टार्टअप नहीं है, जिसने अतीत में अपने मूल्यांकन में गिरावट देखी हो | भारतीय स्टार्टअप स्पेस में सबसे बड़े निवेशकों में से एक, SoftBank Group Corp. ने देश में अपनी दो सबसे बड़ी निवेश इकाईयों, Ola और Snapdeal में करीब 160.4 बिलियन येन (लगभग 1.4 बिलियन डॉलर) का मूल्यांकन नुकसान दर्ज किया है | इसके अलावा, Vanguard World Fund ने Ola में अपने हिस्सेदारी मूल्यांकन को फरवरी में 41 प्रतिशत घटा दिया था, जिससे Ola का मूल्यांकन 4.3 बिलियन डॉलर से 2.5 बिलियन डॉलर के स्तर पर आ गया था |

इस बीच Flipkart के मूल्यांकन में यह वृद्धि उस समय आई है जब यह अपने छोटे प्रतिद्वंद्वी, Snapdeal के साथ विलय के लिए बातचीत कर रहा है | यह सौदा जापान की SoftBank के नेतृत्व में हो रहा है, जो Snapdeal के अधिकांश शेयरधारक है | साथ ही यह मर्ज़ की जाने वाली इकाई में काफी मात्रा में निवेश करने और Tiger Global Management के एक हिस्से को खरीदने की योजना बना रहा है |

मर्ज की गई इकाई अब Amazon India को पछाड़ने के लिए देश में अपने कारोबार का आक्रामक रूप से विस्तार कर सकती है | इससे पहले, Amazon के संस्थापक जेफ बेजोस ने भी भारतीय परिचालनों में 5 बिलियन डॉलर का निवेश करने के लिए प्रतिबद्धता जताई थी, जिससे यह स्पष्ट हो गया कि कंपनी बाजार में अपनी हिस्सेदारी सुनिश्चित करने का मन बना रही है |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन