इंटरनेट खबर डिजिटल इंडिया

‘डिजिटल इंडिया’ कार्यक्रम को कॉर्पोरेट आर्किटेक्चर के साथ किया जाए पेश: रविशंकर प्रसाद

‘डिजिटल इंडिया’ मोदी सरकार की सबसे महत्वाकांक्षी परियोजनाओं में से एक है | साथ ही सरकार इस परियोजना में परंपरागत नौकरशाही दृष्टिकोण नहीं चाहती है जो कार्यान्वयन या समय के साथ समस्या पैदा करे |

इस विषय पर बोलते हुए, देश के आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सरकार कार्यक्रम के कार्यान्वयन में निगमों को सुचारू रूप से सयोजित करने पर विचार कर रही है |

इसे व्यावसायिक रूप से कॉर्पोरेट आर्किटेक्चर के साथ प्रबंधित किया जाएगा |

उन्होंने कहा कि,

“ निगमकरण प्रतिभा के विकास और तेजी से निर्णय लेने के लिए लचीलापन तथा अवसर प्रदान करता है ”

इसका अर्थ यह हो सकता है कि एक ठेठ कॉर्पोरेट संरचना में सीईओ सीधे मंत्रालय को रिपोर्टिंग करे और इसके परिणामस्वरूप न्यूनतम सरकारी हस्तक्षेप सुनिश्चित किया जा सके |

जैसा की जाहिर है, कंसल्टेंसी फर्म, McKinsey को ‘डिज़िटल इंडिया प्रोग्राम’ के लिए आधारभूत संरचना के निर्माण के लिए नियुक्त किया गया है | फर्म निती अयोग से निविष्टियाँ लेगा, जो राज्य की ई-तत्परता सूचकांक के बारे में व्यापक जानकारी प्रदान करेगा |

आईटी मंत्री का मानना ​​है कि इन सभी प्रयासों को देखते हुए डिजिटल इंडिया अपने आप में एक विशाल अर्थव्यवस्था बन जाएगी |

अगले पांच से सात वर्षों में देश में डिजिटल अर्थव्यवस्था एक ट्रिलियन के करीब हो जायेगी |

साथ ही यह भी कहा गया कि अगले चार से पांच वर्षों के भीतर इस क्षेत्र में 2 मिलियन से अधिक नई नौकरियों का निर्माण होगा | श्री प्रसाद ने भारतीय आईटी उद्योग में आसन्न छंटनी और रोलबैक की अफवाहों का भी खंडन किया |

“ मैं पूरी तरह से इनकार करता हूँ और इस बात का खंडन करता हूँ कि आईटी क्षेत्र में रोजगार संबंधी कोई मंदी है, यह एक मजबूत क्षेत्र है और एक बार जब डिजिटल अर्थव्यवस्था यहां आएगी, तो आप देखेंगे कि यह कितना प्रगति करेगा ”

अपनी सरकार के कार्यकाल के बारे में बोलते हुए, उन्होंने कहा कि पिछले तीन वर्षों में करीब 10 लाख लोगों को रोजगार देने के लिए 2.5 लाख से ज्यादा आम सेवा केंद्र बनाए गए हैं |

प्रसाद ने दावा किया कि हाल के मैलवेयर हमलों ने कई देशों को प्रभावित किया, लेकिन भारत में इसका ज्यादा असर नहीं पड़ा क्योंकि सरकार मार्च के शुरू से ही सक्रिय उपाय करने में जुड़ी हुई थी और Microsoft ने हमले से पहले ही सिस्टम अपडेट की प्रक्रिया शुरू कर दी थी |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन