खबर

Facebook में अब ‘भोजन ऑर्डर’ करने की सेवा भी निहित

Facebook एक नया फ़ीचर लांच कर कर रही है, जिसमें वे अपने उपभोक्ताओं को अपने मंच से ही खाना ऑर्डर करने की सुविधा देगी और अन्य भोजन या रेस्त्रां वेबसाइट पर नहीं जाने देगी। ऐसा इसलिये, क्योंकि वेब व मोबाइल, दोनों ही माध्यमों के लिये Facebook पर एक नया ‘भोजन ऑर्डर’ करने का विकल्प आ रहा है।

इनकी वेबसाइट पर उपलब्ध रंगीन हैमबर्गर आइकॉन और मोबाइल ऐपेलिकेशन पर उपलब्ध नीले व सफ़ेद हैमबर्गर आइकॉन पर क्लिक कर के आप Delivery.com या Slice के माध्यम से भोजन ऑर्डर कर सकते हैं।

Facebook वे पहले भी Delivery.com और Slice के साथ साझा किया है, और ये डिलिवरी सेवा मात्र उस साझे का एक और रूप है। उस समय, कंपनी ने कहा था कि वे एक ऐसे भोजन ऑर्डर करने के विकल्प के साथ आयेंगे, जो कि उनके पेज के ‘ऑर्डर शुरू करें’ पेज से Facebook उभोक्ताओं का भोजन ऑर्डर करना संभव करेगा।

‘भोजन ऑर्डर’ फीचर, नैविगेशन विकल्पों के साथ, आपको ऑर्डर करने के लिये उपलब्ध रेस्त्रां की सूचि दिखायेगा, जिसमें उनकी फ़ीचर फ़ोटो, प्राइस रेंज (डॉलर साइन के रूप में), स्टार रेटिंग और कुज़ीन भी दिखते हैं। पिकप व डिलिवरी विकल्प भी उपलब्ध होते हैं।

अगर आप किसी रेस्त्रां के Facebook पेज से सीधे भोजन मंगाना चाहते हैं, तो आप ‘ऑर्डर शुरू करें’ पर क्लिक कर के ऐसा कर सकते हैं। इस सेवा से आप मेन्यू देख सकते हैं, चीज़ों को कारेट में डाल सकते हैं, टिप जोड़ सकते हैं और फिर Facebook पर ही भुगतान कर सकते हैं, Delivery.com या Slice द्वारा उपलब्ध करायी गयी सेवा का उपयोग कर के।

भुगतान करने के बाद, Facebook आपको एक कंफ़र्मेशन भेजेगी, जिसपर आपको जानकारी दी जायेगी कि आपके भोजन का कंफ़र्मेशन व डिलिवरी अथवा पिकप का अमुमानित समय भी दिया जायेगा।

देखा गया है कि पिछले कुछ दिनों से Facebook अन्य ऐप्लिकेशनों के कार्य की नकल करने का प्रयत्न कर रही है। इस नयी सेवा से, उपभोक्ता बिना किसी और वेबसाइट पर गये हुए, अपने मनपसंद रेस्त्रां से खाना मंगा सकते हैं, जो कि अपने आप में एक लाभ सा लगता है। अगर कंपनी एक ऐसा मंच बनाना चाहती है जिससे उपभोक्ता दिन भर चिपके रहें, तो ये शुरवात बिलकुल सही है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन