इंटरनेट खबर गूगल

2021 तक भारत में ऑनलाइन गेमर्स की संख्या में होगा लगभग तीन गुना इजाफ़ा: Google

ऑनलाइन गेमिंग शायद आज अत्यधिक लोकप्रिय और सामान्य सी बात हो गयी है | ऑनलाइन गेमिंग जगत में कई गेम आए और अपनी जगह स्थापित की, लेकिन यह सच है कि अपनी अपनी व्यक्तिगत पसंद के आधार पर कभी भी इसकी लोकप्रियता में कोई कमी दिखाई नहीं दी |

आप भी शायद इस बात से इत्तेफ़ाक रखतें हों कि विदेश क्या देश में भी लगभग हर दूसरा बच्चा एक शौकीन ऑनलाइन गेमर है | इसी को बल देते हुए अब Google India और KPMG के मुताबिक, यह लोकप्रियता और तेजी से बढ़ रही है और एक अनुमान के मुताबिक 2021 तक देश में ऑनलाइन गेमर्स की संख्या लगभग तिगुनी हो जायेगी |

Google के मुताबिक, देश में ऑनलाइन गेमर्स की संख्या लगभग 120 मिलियन है | कंपनी का कहना है कि यह संख्या आगामी दिनों में एक महत्वपूर्ण छलांग को चिह्नित करेगी और 2021 तक यह 310 मिलियन से अधिक होगी | 310 मिलियन की संख्या वाकई काफी बड़ी संख्या है | चीजों को परिप्रेक्ष्य में रखने के लिए हम आपको बता दें कि 2012 में यूपी की जनसंख्या करीब 200 मिलियन थी |

बेशक, संख्या में आश्चर्यजनक अनुमानित वृद्धि के साथ ही उद्योग में भी वृद्धि होगी और 2021 तक यह करीब 1 बिलियन डॉलर की कीमत हासिल कर सकता है |

रिपोर्ट के अनुसार,

“ भारत में ऑनलाइन गेमिंग उद्योग में 2021 तक की वृद्धि होगी और इसके 1 बिलियन डॉलर तक बढ़ने की उम्मीद है, वर्तमान में यह 20 फीसदी की विकास दर के साथ 360 मिलियन डॉलर है ”

साथ ही यह भी कहा गया,

“ भारतीयों द्वारा ऑनलाइन गेम की खोज में 117 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ, यह अनुमान लगाया गया है कि 2016 में 120 मिलियन गेमर्स की संख्या में वृद्धि होगी और 2021 तक यह बढ़कर 310 मिलियन हो जाएगी ”

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि वर्तमान में आधे से ज्यादा गेमर्स समीक्षकों की सिफारिशों के आधार पर गेम चलाते हैं | ज्यादातर रणनीतियों के खेल भारी गेमर्स द्वारा उठाए जाते हैं और आकस्मिक गेमर आम तौर पर पहेली खेलों को चुनते हैं |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन