इंटरनेट खबर

WhatsApp के ‘Status’ फ़ीचर के दैनिक उपभोक्ता अब 175 मिलियन

जब ये फ़ीचर पहली बार रिलीज़ हुआ था, तब कइयों ने इसके विरोध में बोला था। Snapchat से मेल खाने के अलावा, उपभोक्ताओं को लग रहा था कि ये फ़ीचर, WhatsApp की मिनिमल्स्टिक वाली इमेज के विरुद्ध है। परंतु अब यही Status, उपभोक्ताओं के मध्य बहुत ही लोकप्रीय हो गया है।

Facebook की प्रथम तिमाही की कमाई मीटिंग में सी.ई.ओ., मार्क ज़करबर्ग ने बताया कि Status फ़ीचर के 175 मिलियन ऐक्टिव उपभोक्ता हो गये हैं। इसका मतलब ये, कि WhatsApp के 1.2 बिलियन उपभोक्ताओं में से करीब 15%, रोज़, किसी न किसी तरीके से इस फ़ीचर का उपयोग करते हैं।

कमाल की बात है कि ये संख्या, Snapchat के कुल उपभोक्ताओं में से भी कई अधिक है। जब हम बड़े दर्शक गण की बात करते हैं, तो हमारा मतलब इसी से होता है। Snapchat इस क्षेत्र में अधिक समय से है और उन्होंने Status को जनम दिया है, पर WhatsApp ने ये अपने मंच पर लाया, और सारे उपभोक्ता हथिया लिये।

Status फ़ीचर की सहायता से उपभोक्ता, कम समय के लिये तस्वीरें, विडियो और GIF पोस्ट कर सकते हैं। अमूमन 24 घंटों के बाद ये ग़ायब हो जाते हैं। और जैसा कि Facebook की रिपोर्ट से पता चलता है, ये लोगों के बीच बहुत ही प्रचलित हैं। और तो और, ये आपसी रंजिश दूर करने का भी बहुत बढ़िया माध्यम हैं।

इस फ़ीचर का आगमन मात्र दस हफ़्तों पहले हुआ था और देखिये ये कहां पहुंच गया है। इससे यही पता चलता है कि लोगों को ये बहुत ही पसंद आ रहा है। ज़रूर इसका कोई विशेष लाभ तो नहीं है, परंतु WhatsApp को ऐड मुक्त रखने में क्या ये Status फ़ीचर भी शामिल था? बहरहाल, Status ने लोगों को आपस में बात करने का कारण दिया है, और इसलिये ये इतना प्रचलित है।

जब WhatsApp ने ये स्टेटस लाकर पुरने टेक्स्ट वाले को हटा दिया था तो बहुत हंगामा हुआ था। परंतु कंपनी ने पुराना वाला वापस लाकर, दोनों ही स्टेटस रहने दिये, जिससे लोगों को उनके मन की सेवा मिलती रहे। परंतु लग रहा है कि लोगों को इतना फ़र्क नहीं पड़ता और वे 24 घंटों के लिये तस्वीर डालने के विचार को हाथों हाथ ले रहे हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन