इंटरनेट खबर

ISRO ने लॉन्च किया GSAT-9 नामक एक संचार उपग्रह, SAARC देशों को होगा इससे लाभ

 

आज श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से 4: 50 बजे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने GSLV के माध्यम से GSAT-9 नामक संचार उपग्रह को सफलतापूर्वक लॉन्च किया | इससे दक्षिण एशियाई क्षेत्र में कई सेवाएं प्रदान की जायेंगी |

इस संचार उपग्रह के जरिये आठ SAARC (South Asian Association for Regional Cooperation) देशों में से सात को लाभ होगा क्योंकि पाकिस्तान इस कार्यक्रम से बाहर है |

पाकिस्तान के अलावा, भारत, श्रीलंका, भूटान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल और मालदीव सहित सभी सदस्य राष्ट्र इस परियोजना में शामिल रहे |

इस सैटेलाइट को लॉन्च करने के लिए 450 करोड़ रुपये (70 मिलियन डॉलर) की एक बड़ी लागत आई, जिसे पूरी तरह से भारत द्वारा वहन किया गया | इसे सम्मानित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दक्षिण एशियाई देशों को एक उपहार के रूप में भेट किया |

प्रधानमंत्रीनमे कहा,

“ यह पूरे दक्षिण एशिया के साथ सहयोग बढ़ाने के लिए भारत का एक महत्वपूर्ण कदम ,है यह एक अमूल्य उपहार है और यह दक्षिण एशिया के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का एक उपयुक्त उदाहरण है, मैं सभी दक्षिण एशियाई देशों का स्वागत करता हूं जो इस महत्वपूर्ण प्रयास में शामिल हुए ”

यह लॉन्च मिशन GSAT-9 को Geo-Synchronous Satellite Launch Vehicle (GSLV-F09) के जरिये अंतरिक्ष तक पहुँचाना था | उपग्रह की मुख्य संरचना एक केंद्रीय सिलेंडर घनत्व आकार की है | इसे इसरो की मानक I-2K के आसपास कॉन्फ़िगर किया गया है और इसका कुल वजन 2,230 किलोग्राम से अधिक है |

इसका उद्देश्य दक्षिण एशियाई देशों के कवरेज के साथ कू बैंड में विभिन्न संचार अनुप्रयोगों को उपलब्ध कराने का है |

प्रधानमंत्री मोदी देश के इतिहास में इस महत्वपूर्ण मील के पत्थर से काफी उत्साहित थे | उन्होंने ट्वीटर के जरिये बधाई देते हुए कहा,

https://twitter.com/narendramodi/status/860461675241127936

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन