खबर गूगल मोबाइल एप्प्स

Google Neural Machine Translation अब नौ भारतीय भाषाओं और अंग्रेजी के बीच अनुवादों को करेगा और भी सशक्त

Google, आज एक आधिकारिक घोषणा के माध्यम से, भारतीय भाषाओं के लिए अपनी बहुप्रतीक्षित ‘Neural Machine Translation’ तकनीक की शुरुआत करने जा रहा है | प्रभावी रूप से इसका मतलब यह है कि कुछ बेहद जटिल मशीन लर्निंग एल्गोरिदम की सहायता से, Google Translation अब आपको 9 भारतीय भाषाओं में कम से कम 55% -85% बेहतर अनुवाद परिणाम देगा |

सामान्य शब्दों में, यह अनुवाद सुविधा अब एक वाक्य के टुकड़ों के बजाय, एक बार में पूर्ण वाक्यों का अनुवाद कर सकेगा | यह बदलाव व्यापक रूप से अनुवाद की गुणवत्ता में सुधार करेगा, जिसकी कोशिश पिछले दस वर्षों में संयुक्त रूप से की जा रही है |

नीचे दिए गए उदाहरण से आप आसानी से इस अन्तर को पहचान सकेंगे,

GNMT (Google Neural Machine Translation) की घोषणा पिछले साल कंपनी ने एक शोध पत्र के माध्यम से की थी | GNMT के साथ, विकिपीडिया और समाचार वेबसाइटों के नमूने की मदद से मापा गया है कि कई प्रमुख भाषाओं पर 55% से 85% अधिक अनुवाद त्रुटियों में कमी लाई जा सकती है | मानवीय रूप से इसकी तुलना कर यह कहा जा सकता है कि GNMT सिस्टम पिछले वाक्यांश-आधारित उत्पादन प्रणाली की तुलना में अत्यधिक सुधरे हुए अनुवाद प्रदान करता है |

जब GNMT ने प्रमुख भाषाओं जैसे चीनी, स्पेनिश और अन्य को पहले से ही लाभ प्रदान करना शुरू कर दिया था, वहीं Google Translation पर भारतीय भाषाओं को वही पुराने, कम सटीक वाक्यांश-आधारित अनुवादों का उपयोग, अनुवाद सुविधा प्रदान की जा रही थी | लेकिन अब आज से, Google Translatio GNMT का उपयोग अंग्रेज़ी और नौ व्यापक रूप से प्रचलित भारतीय भाषाओं जैसे हिंदी, बंगाली, मराठी, तमिल, तेलगु, गुजराती, पंजाबी, मलयालम और कन्नड़ में अनुवाद प्रदान करेगा |

तो Google का यह नया आगाज़ महत्वपूर्ण क्यों है? दरसल, आज भारत में 234 मिलियन भारतीय भाषा उपयोगकर्ता हैं जो 175 मिलियन अंग्रेजी वेब उपयोगकर्ताओं की तुलना में ऑनलाइन होतें हैं | और साथ ही अब Google और KPMG की एक संयुक्त रिपोर्ट के मुताबिक आने वाले चार साल में, 300 मिलियन भारतीय भाषा उपयोगकर्ताओं की ऑनलाइन मौजूदगी दर्ज़ होने की उम्मीद है |

आज के लॉन्च (GNMT और 22 भारतीय भाषाओं के लिए Gboard) के साथ, Google यह सुनिश्चित कर रहा है कि उस व्यापक भाषाई डोमेन को पीछे न छोड़ा जाए, जहां बहुत सारे स्थानीय उपयोगकर्ता जल्द ही जुड़ने वालें हों | और साथ ही Google अपनी तकनीकों में सुधार कर, इस सुविधाओं से जुड़े उपयोगकर्ता आधार के विस्तार को सुनिश्चित करना चाहता है |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन