एप्पल खबर

Apple का डेटा केंद्र पहुँचायेगा, घरों तक गर्मी और किसानों तक खाद

Apple को पर्यावरण की बहुत चिंता है। कंपनी ने हाल ही में कहा कि वे खदानों पर निर्भर होना छोड़ कर पुरानी धातु व समानों के पुनः प्रयोग से नये iPhone बनायेंगे।

परंतु ये यहीं तक सामित नहीं है। Apple के डैनिश डेटा केंद्र डेटा स्टोर व ट्रांसमिट करने के अलावा भी बहुत कुछ करेंगे।

कंपनी के जुटलैंड डेटा केंद्रों में पास के फ़ार्मों के कबाड़ का पुनः प्रयोग कर के ऊर्जा पहुंचायी जायेगी। इतना ही नहीं, वे खाद भी तैयार करेंगे और आस पास के किसानों को पहुंचायेंगे। साथ ही, इन डेटा केंद्रों को शहर के हीटिंग सिस्टम से जोड़ दिया जायेगा, जिससे कि वे आस पास को घरों में गर्मी पहुंचा सकें।

MacWorld के मुताबिक:

जुटलैंड के डेटाकेंद्र में आंशिक रूप से ऊर्जा फ़ार्मों के कबाड़ को रीसाइकल कर के पहुंचायी जायेगी। Apple, Aarhus University के साथ एक ऐसा डाइजेस्टर तैयार करने के लिये काम कर रही है, जिसमें कृषी का कूड़ा डाला जाये तो उससे मीथेन गैस निकले, जिससे डेटा केंद्र को ऊर्जा मिलेगी। इस डाइजेस्टर में होने वाले रियैक्शन से मीथेन के अलावा खाद भी निकलती है, जो Apple फिर स्थानीय किसानों को वापस कर देती है।

ये डेटा केंद्र 950 मिलियन की लागत के साथ, देश में सबसे बड़ा विदेशी निवेश है। ये डेटाकेंद्र एक मिसाल है, जिसका अन्य कंपनियों को भी पालन करना चाहिये, Apple पर्यावरण की सुरक्षा करने के अन्य प्रयासों जैसे ही।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन