खबर स्टार्टअप्स

$3 बिलियन के मूल्यांकन के साथ Ola ने SoftBank के जरिये अर्जित किया $250 मिलियन का निवेश

भारत की अग्रणी टैक्सी सेवा प्रदाता, Ola ने जापान स्थित, SoftBank से नए दौर में 250 मिलियन डॉलर जुटाए हैं, यह ख़ुलासा कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय (MCA) में दर्ज किए गए दस्तावेजों के जरिये हो सका है |

हालांकि, यह निवेश इस साल नहीं किया गया है | दस्तावेजों से पता चलता है कि Ola की मूल कंपनी ANI Technologies ने SoftBank की सहायक कंपनी SIMI Pacific Pte Ltd के जरिए पिछले वर्ष यह निवेश हासिल किया था |

दस्तावेजों के मुताबिक Ola ने 12,97,945 सीरीज़-I वरीयता शेयर जारी किए हैं, जिनमें से प्रत्येक की कीमत ₹10 के साथ अंकित है, साथ ही यह ₹12,905 की सदस्यता कीमत पर जारी किए गए हैं जिसमें 12,895 की प्रीमियम सदस्यता भी शामिल है |

SoftBank के नेतृत्व में वित्त पोषण के इस नए दौर में Ola के प्रमुख शेयरधारक के रूप में इसकी स्थिति को पुन: स्थापित किया है | अनुमान के मुताबिक, Ola में SoftBank का 22.5% हिस्सा है, और इसके बाद Tiger Global भी 20.5% की हिस्सेदारी के साथ दुसरे स्थान पर है |

निवेश का यह दौर ‘डाउन राउंड’ की तर्ज़ पर नज़र आया, क्योंकि कंपनी के मूल्यांकन में पिछले दौर के मूल्यांकन के मुकाबले कमी दर्ज़ की गई | दिलचस्प बात यह है कि अभी तक इस निवेश का कोई आधिकारिक ऐलान नहीं किया गया है | इस दौर के साथ, कंपनी का मूल्यांकन 4.8 बिलियन डॉलर से 3 बिलियन डॉलर हो गया है |

कुछ रिपोर्ट बताती हैं कि यह दौर अभी भी खुला है और कंपनी इस दौर में निवेशकों को आकर्षित करने के लिए काम कर रही है |

हमने पहले बताया था कि Ola एक सौदे के तहत रतन टाटा की RNT Capital और Falcon Edge से क़रीब 100 मिलियन डॉलर जुटाने की योजना बना रही है, जिसमें यह अपना मूल्यांकन 3.5 बिलियन डॉलर तक बढ़ा सकती है |

RedSeer Management Consulting की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2016 में, Ola और Uber ने पिछले साल की तुलना में सवारी की संख्या में लगभग चार गुना वृद्धि दर्ज की है | अनुमान के अनुसार Ola की बाजार हिस्सेदारी लगभग 65% की है, वहीं Uber इसके बाद दूसरे स्थान पर काबिज है |

बैंगलोर स्थित कंपनी ने सितंबर से दिसंबर 2016 के बीच औसतन लगभग 6 मिलियन साप्ताहिक सवारी दर्ज की है, जिसमें सभी सुविधाओं कैब, ऑटो रिक्शा और शटल बसें शामिल हैं | हालांकि, Ola और Uber दोनों के लिए राजस्व का प्रमुख स्रोतों में (लगभग 70-75%) उनकी अर्थव्यवस्था सेवाएं, जैसे क्रमशः Ola Micro, Mini और UberGo शामिल हैं |

कंपनी ग्राहकों को आकर्षित करने और बाजार हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए अत्यधिक निवेश अर्जित करना चाहती है | वित्त वर्ष 2014-15 में इसका राजस्व सात गुना बढ़कर, 380.2 करोड़ रुपये हो गया जो कि वित्त वर्ष 2013-14 में 49.6 करोड़ रुपये था | लेकिन वहीं इसका शुद्ध घाटा 344 करोड़ रुपये से बढ़कर 754.8 करोड़ रुपये हो गया, क्योंकि कुल व्यय 14 गुना बढ़कर 1,173 करोड़ रुपये तक पहुँच गया था |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन