BUSINESS ENTERPRISE News

Cisco भारत में 250K छात्रों को करेगा प्रशिक्षित, गुरुगुराम में खोलेगा अपनी 5वीं ‘साइबर रेंज लैब’

कनेक्टेड उपकरणों और प्रौद्योगिकी उन्नयन की संख्या में वृद्धि के साथ ही कुशल, विश्वसनीय, स्मार्ट, और सुरक्षित नेटवर्क की मांग देश के विभिन्न हिस्सों में तेज़ी से बढ़ रही है | और इसके चलते नेटवर्क इंफ्रास्ट्रक्चर को निश्चित रूप से विकसितकिए जाने की जरूरत है, जो डिजिटलीकरण लहर के साथ शुरू भी हो गया है |

इस परिदृश्य के चलते, अमेरिका-आधारित नेटवर्किंग कंपनी, Cisco ने आज के समय में भारत में लगभग 250,000 छात्रों को प्रशिक्षित करने की अपनी योजना की घोषणा की है | उसी के बारे में बात करते हुए, Cisco India और SAARC के अध्यक्ष, दिनेश मल्कानी ने कहा,

“ हमने शिक्षा में बहुत काम किया है और ऐसे कई ऐसे परिसर हैं, जो हमारी तकनीक का उपयोग करते हैं, और इसी के चलते अब हम देश भर में नेटवर्किंग, सुरक्षा और IoT क्षेत्रों में 250,000 छात्रों को प्रशिक्षित करेंगे ”

इंटरनेट पर साझा की गई हैकर्स और डेटा की संख्या में वृद्धि के कारण आज की दुनिया में साइबर सुरक्षा एक मौलिक जरुरत बन गयी है | वैश्विक स्तर पर साइबर सुरक्षा की मांग बढ़ रही है | अपने आप में एक नेटवर्किंग कंपनी होने के नाते, Cisco ने विद्यार्थियों के साथ अपने विशाल अनुभव को साझा करने और नेटवर्किंग के बारे में व्यावहारिक ज्ञान प्रदान करने के लिए कार्य करने के बीड़ा उठाया है | जहां तक ​IoT का संबंध है, वर्तमान में कनेक्टेड डिवाइस जनता के बीच सबसे लोकप्रिय राजस्व पैदा करने वाली मशीन हैं |

Cisco पिछले बीस वर्षों से भारत में रहा है और उसने अपनी डिजिटल उपस्थिति को आगे बढ़ाने के लिए भारत में काफी निवेश किया है | इसकी अपनी अनुसंधान एवं विकास सुविधाएं है और साथ ही भारत भर में इनके वैश्विक वितरण केंद्र हैं |

कंपनी वर्तमान में साइबर सुरक्षा से संबंधित, 50 परियोजनाओं पर काम कर रही है और 2017 के अंत तक उन्हें पूरा करने का लक्ष्य रखती है | इसके साथ ही उन्होंने सबसे अच्छा सुरक्षा पोर्टफोलियो बनाने के लिए 4 बिलियन डॉलर से अधिक का खर्च किया है |

इसने हाल ही में गुरूग्राम में अपनी 5वीं साइबर रेंज लैब को खोली है, ताकि आगामी खतरों से मुकाबला करने के लिए विशेष तकनीकी प्रशिक्षण कार्यशालाओं में प्रशिक्षण दिया जा सके | यथार्थवादी साइबर आक्रमण के अनुभवों को देने के लिए प्रयोगशाला 200-500 विभिन्न प्रकार के Malwar, Ransomware और 100 हमले के मामलों का उपयोग करेगी |

Cisco के लिए फोकस का अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्र, भारतीय शहरों का स्मार्ट शहरों के रूप विकास भी हिया है | इस पर मल्कानी ने कहा,

“ हम स्मार्ट शहरों को ओर बढ़ रहें हैं, हम नवी मुम्बई में एक सुरक्षित शहर परियोजना की तलाश में लगे हैं और साथ ही हम लखनऊ और नागपुर को भी सुरक्षित शहर बनाने की दिश में काम कर रहे हैं ”

“ इस प्रकार, हम स्मार्ट शहरों के विकास पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, और साथ ही हम अपने समाधान और पोर्टफोलियो को परिष्कृत करते रहें ”

IDC की हाल ही की रिपोर्ट के मुताबिक, Cisco भारत के LAN बाजार हिस्सेदारी में 65.74% के साथ Q4 2016 में प्रभावी साबित हुआ, इसके बाद Huawei और HPE ने अपनी जगह बनाई | वहीं कंपनी भारत के WLAN Market में Q4 2016 में दूसरे स्थान पर रही, जबकि D-Link इस क्षेत्र में 29.50% बाजार हिस्सेदारी के साथ शीर्ष स्थान पर रहा | कंपनी के सामाजिक प्रयासों से निश्चित रूप से देश में इसकी प्रतिष्ठा बढ़ेगी और इसके लिए कंपनी को इन नंबरों को और आगे बढ़ाना होगा |

 

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन