News

Comcast अपने उपभोक्ताओं की ब्राउज़िंग हिस्ट्री को नहीं बेचेंगे

राष्ट्रपती ओबामा के दौरान बने इंटरनेट निजिता नियमों को US कॉन्ग्रेस द्वारा पलटने के कुछ समय बाद इंटरनेट कंपनी Comcast Corp ने घोषणा करी कि वे उपभोक्ताओं की ब्राउज़िंग हिस्ट्री किसी तीसरी पार्टी को नहीं बेचेंगे।

ये बिल राष्ट्रपती ओबामा के कार्यकाल के दौरान फ़ेडरस कम्युनिकेशन्स कमिशन द्वारा अपनाये गये नियमों को बदलने का प्रयास करेगा, जो कि उपभोक्ताओं की निजिता को Google व Facebook की तुलना में उपभोक्ताओं की निजिता को अधिक संभालने के लिये ISPयों कि ओर से अधिक प्रयास मांगती है।

Comcast के प्रमुख निजिता अधिकारी जेरार्ड लूइस ने कहा:

हमें अपने ब्रॉडबैंड उपभोक्ताओं की ब्राउज़िंग हिस्ट्री को नहीं बेचते। हम FCC नियमों के आने के पहले भी ऐसा नहीं करते थे और अब भी ऐसा नहीं करेंगे।

लूइस ने कहा कि वे स्वयं अपनी निजिता पॉलिसी को पुनः इवैल्युएट कर रहे हैं:

हम अपने उपभोक्ताओं की ब्राउज़िंग हिस्ट्री को तीसरी पार्टियों को नहीं बेचते हैं।

US कॉन्ग्रेस ने रिपबलिकनों के रूलिंग अंग ने बहुत मुश्किल से और बहुत विरोध के बाद ये बिल हाल ही में बास कराया। ये निर्णय AT&T, Comcast और Verizon Communications जैसी कंपनियों को बहुत लाभ देगा। इस बुधवार को व्हाइट हाउज़ से घोषणा आयी कि राष्ट्रपती ट्रंप इस रिवोक करने वाले बिल पर हस्ताक्षर करने वाले हैं, परंतु ऐसा हुआ नहीं।

इन नियमों के अनुसार, उपभोक्ताओं की निजी जानकारी किसी तीसरी पार्टी से बाटने से पहले कंपनियों को उपभोक्ताओं से इजाज़त लेनी होगी। परंतु ऐसा वेबसाइटों किसी कड़े नियमों से नहीं बंधी हुई हैं और उन्हें कोई अनुमती लेने की ज़रूरत नहीं है।

कॉन्ग्रेस में उपस्थित लोगों ने कहा कि ये कंपनियां उपभोक्ताओं की ब्राउज़िंग हिस्ट्री किसी भी तीसरी पार्टी को बेच सकती हैं, जो उन्हें सबसे अधिक पैसे दें और कुछ ने यहां तक कहा कि वे रिपबलिकनों की ब्राउज़िंग हिस्ट्री खरीदने के लिये पैसे जुटाने के लिये भी तैयार हैं।

बहरहाल शुक्रवार को एक बयैन में AT&T ने कहा कि भले ही राष्ट्रपती ट्रंप इस बिल को हस्ताक्षरित कर दें पर वे अपनी निजिता पॉलिसियों में बगलाव नहीं लायेंगे और “आपकी ब्राउज़िंग हिस्ट्री किसी भी तीसरी पार्टी को नहीं बेचेंगे”।

वेबसाइटों और सेवा उपलब्ध कराने वाल पैसे जुटाने के लिये उपभोक्ताओं की ब्राउज़िंग हिस्ट्री तीसरी पार्टियों को बेच देते हैं। रिपबलिकनों का मानना है कि अंतर करने से इंटरनेट उपलब्ध कराने वालो से वेबसाइटों के पास अधिक ताकत होगी। 46 डेमोक्रैटों ने राष्ट्रपती ट्रंप से बिल को न हस्ताक्षरित करने का निवेदन किया है, क्योंकि उनका मानना है कि निजिता हर व्यक्ति का अधिकार है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन