INTERNET News

‘यौन उत्पीड़न’ मामले में TVF के सीईओ के ख़िलाफ़ दर्ज़ हुई ‘एक और FIR’

अरुणभ कुमार के खिलाफ यौन उत्पीड़न का मामला, सोशल मीडिया में तुल पकड़ने के साथ ही साथअसल ज़िन्दगी में भी और भी रोचक रूप लेते दिखाई पड़ रहा है | दरसल आज वर्सोवा पुलिस थाने में TVF के संस्थापक और सीईओ के खिलाफ एक और FIR दर्ज की गई है |

पुलिस का सुझाव है कि जिस महिला ने यह नई FIR दर्ज करवाई है, उसका कहना है कि उसे अरुणभ ने वर्सोवा कार्यालय में एक साक्षात्कार के लिए बुलाया था | उस महिला से कथित तौर पर अपने व्यक्तिगत कार्यालय में एक साक्षात्कार के दौरान उन्होंने छेड़छाड़ की | पुलिस ने कहा,

“ अरुणभ कुमार द्वारा केबिन में महिला के साथ छेड़छाड़ की गई थी | वह तुरंत उनके केबिन से निकल गई और बाद में उनसे कभी नहीं मिली, हमनें आईपीसी की धारा 354 के तहत FIR दर्ज की है ”

जिस महिला ने अरुणभ कुमार के खिलाफ दूसरी FIR दायर की है, कहते हैं कि वह ऐसे मामलों में कानूनी प्रक्रिया के अस्तित्व के प्रति उदासीन हैं | लेकिन जब उन्हें पहली FIR के बारे में ख़बर मिली, तो उन्होंने भी सामने आकर कार्रवाई करने का निर्णय लिया और दूसरी FIR भी दर्ज़ करवाई | अब स्थिति ऐसे में इसलिए भी और कठिन हो गई है क्योंकि अरुणभ के ठिकाने अभी भी अज्ञात हैं, वह कहाँ हैं ? इस बात का पता किसी को नहीं है |

खैर ! इस बीच कल से फ़ैली इस ख़बर में निश्चित रूप से हमें आश्चर्यचकित किया है TVF के सीईओ, अरुणभ कुमार को मुंबई पुलिस द्वारा पूछताछ के लिए बुलाया गया था, लेकिन वह अब पुलिस से भागे भागे फिर रहें हैं | जी हाँ ! अरुणभ वर्तमान में लापता हैं और पुलिस अधिकारी भी उनका पता लगा आपने में असमर्थता दिखा रहें हैं |

इसी बारे में बात करते हुए, एक पुलिस अधिकारी ने मीडिया को बताया,

“ हम उसको खोज रहे हैं लेकिन अभी तक हम उसे ढूंढने में असमर्थ ही रहें हैं “

इसके अलावा, अधिकारी ने यह भी कहा कि मुंबई पुलिस इस डिजिटल मीडिया साम्राज्य के संस्थापक और सीईओ को गिरफ्तार करने के लिए उत्सुक है क्योंकि उनके खिलाफ यौन उत्पीड़न के भयानक आरोप हैं |

साथ ही यह भी कहा गया है कि अरुणभ पर गैर-जमानती अपराध का आरोप लगाया गया है और पुलिस पूछताछ के लिए उसे गिरफ्तार करने के लिए तैयार है, जो आगे की कार्रवाई का पालन करेंगे |

कल के मामले की जानकारी के लिए आप यहाँ क्लिक करें |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन