News Start-Ups

Rentomojo द्वारा अब किराये पर लीजिये दो-पहिया वाहन

ऑनलाइन फ़र्नीचर किराय पर देने वाले मंच Rentomojo ने आज घोषणा करी है कि वे अब से अपने मंच की एक नयी श्रेणी के अंतर्गत, दो-पहिया वाहन भी किराये पर देंगे। ये, कंपनी द्वारा फ़र्नीचर और घरेलू अप्लायंसों के अतिरिक्त है।

कंपनी दिल्ली-NCR, मुंबई, पुणे और बैंगलोर जैसे कुछ चुनिंदा शहरों में ये सेवा “बाइक ऑन लीज़” श्रेय के अंतर्गत उपलब्ध करायेगी। एक सर्वे के मुताबिक, ये वो शहर हैं, जहां लोग आने-जाने के लिये सबसे अधिक दो-पहिया वाहनों का उपयोग करते हैं। सर्वे में ये भी बताया गया की अमूमन उपभोक्ता दो-पहिया वाहनों का उपयोग कर हर महीने करीब ₹1000 और आधे घंटे तक का समय बचाते हैं।

आज की पीढ़ी के लिये, जो कि काम करने और सीखने के लिये हमेशा इधर-उधर घूमते रहते हैं, ये सेवा स्टार्टप के नज़रिये से बहुत सटीक समय पर आयी है। Rentomojo जैसे स्टार्टपों की सहायता से, आज कल के बैचलर बहुत सारा सामान रखने, और ज़रूरत न होने पर उसका क्या करें ये सोचने से मुक्त हो गये हैं।

इसी पर बात करते हुए Rentomojo के साथ.ई. ओ. गीतांश बर्मनिया ने कहा:

जहां पुरानी पीढ़ियां ये सोचते हुए आगे चली हैं कि घर या गाड़ी होना, किसी भी व्यक्ति के लिये महत्वपूर्ण उपलब्धियां होती हैं, वहीं आज के लोग, बड़ी चीज़ें खरीदने से कतराते हैं। चुनौतियों भरी जीवनशैलि और मुश्किल नौकरियों के चलते, आज के लोग, बांटी हुई अर्थव्यवस्था में अधिक विश्वास रखते हैं। ऐसी बदलता ज़रूरतें के समय में, Rentomojo में हम प्रयास कर रहे हैं कि हम उपभोक्ताओं को आसान व परेशानी रहित विकल्प उपलब्ध करा सकें।

अभी तक Rentomojo को $7 मिलियन का निवेश प्राप्त हो चुका है। $2 मिलियन का सीड निवेश, नवंबर 2015 में, और फिर पिछले वर्ष ए सत्र में $5 मिलियन और। दोनों ही सत्रों में Accel Partners और IDG Ventures India ने हिस्सा लिया।

इस नयी सुविधा के साथ, कंपनी ने अपने प्रतिद्वंददियों पर बढ़ंत हासिल करी है, जो कि केवल एक श्रेणी में कार्य कर रहे हैं – फ़र्नीचर। भारत में वेंडरों के अनियंत्रण और भुगतान नेट्वर्कों की कमी के कारण, रेंटल क्षेत्र अभी भी शुरवाती दौर में ही है। इधर बीच कई सारे स्टार्टप ये बदलने के उद्देश्य से इस क्षेत्र में प्रवेश ले रहे हैं। इसी के लिये Rentomojo को Cityfurnish, Furlenco, Rentongo जैसे स्टार्टपों से प्रतिद्वंद करना है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन