BUSINESS E-Commerce News

Alibaba ने बेंगलुरु से किया देश में विस्तार का आगाज़, CoWrks के साथ किया करार

Aभारतीय बाज़ार में अपनी उपस्थिति और भी मजबूत करने के इरादे से Alibaba ने देश की सिलिकॉन वैली कहे जाने वाले, बेंगलुरु में अपना एक कार्यालय स्थापित किया है | कुछ स्रोतों के मुताबिक, इस चीनी ई-कॉमर्स दिग्गज ने 30 समर्पित सीटों या निजी स्टूडियो हासिल करने हेतु, सह-कार्य समुदाय उद्यम, CoWrks के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं | यह देश में कंपनी का दूसरा कार्यालय है, इससे पहले कंपनी ने पहला कार्यालय मुंबई में स्थापित किया था |

कंपनी मुम्बई में अपने मुख्यालय में प्रौद्योगिकी टीम को बंद करने की कोशिश कर रही है | ET की रिपोर्ट के अनुसार, Alibaba के बेंगलुरु स्थित कार्यालय में व्यवस्थापक, मानव संसाधन, और RMZ Infinity में 400-सीटर CoWrks के साथ काम करने वाली एक टीम है |

ये सह-कार्य कार्यालय RMZ के स्वामित्व वाले हैं, जो देश के सबसे बड़े रियल एस्टेट डेवलपर्स में से एक है | कंपनी ने चेन्नई में एक नई शुरुआत के साथ ही नई दिल्ली और मुंबई में भी इसी तरह के कार्यस्थलों की स्थापना की है | Alibaba प्रति माह 20,000 प्रति डेस्क का भुगतान करने को लेकर रजामंद हुई है |

Alibaba और CoWrks दोनों ने इन विस्तार योजनाओं पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है, साथ ही सामान्य जवाब देते हुए, उन्होंने ऐसी किसी भी अफवाहों पर टिप्पणी करने से माना कर दिया है | एक प्रवक्ता ने केवल यह प्रतिज्ञान दिया था कि भारत (जो सबसे तेज़ी से बढ़ते बाजारों में से एक है) इस चीनी विशालकाय के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर है |

“ भारत महान संभावना के साथ एक महत्वपूर्ण उभरते बाजारों में से एक है और हम इस बाजार को लंबे समय तक विकसित करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं ”

लेकिन CoWrks के सीईओ, सिद्धार्थ मंदा ने इस सौदे के बारे में कुछ भी जानकारी देने से इंकार कर दिया है, लेकिन साथ ही उन्होंने सहयोगी कार्यक्षेत्र की बढ़ती संस्कृति पर टिप्पणी जरुर की है |

उन्होंने कहा कि,

“ कॉर्पोरेट दिग्गजों ने अब अपनी अचल संपत्ति की रणनीति पर पुनर्विचार किया है ताकि वे शानदार कार्यालयों की स्थापना न कर, अपनी पूंजी बचा सकें, और इस तरह के माहौल में उन्हें अन्य समान विचारधारा वाले व्यक्तियों के साथ बातचीत करने का अवसर भी मिलता है ”

इसके साथ ही उन्होंने आगे कहा,

“ यह अत्यधिक व्यस्त और उद्यमी समुदाय के साथ काम करने का अवसर है, जो सीधे उत्पादकता में सुधार को बढ़ावा देता है, कर्मचारियों को इस तरह के विचारों के साथ, कार्यालय से बाहर रहना ही पसंद आता है ”

जो लोग इस बात से अवगत नहीं हैं, उनको हम बताना चाहेंगें कि Alibaba देश में अपने विकास को लेकर लगातार हस्तक्षेप कर रहा है, ताकि मौजूदा खिलाड़ियों जैसे कि Amazon और घरेलू खिलाड़ी, Flipkart आदि को टक्कर दी जा सके |

इसी के चलते यह न केवल देश में अपनी टीम का निर्माण कर रहा है बल्कि मुंबई में अपने मुख्यालय की स्थापना के साथ ही, भारत में विस्तार योजनाओं की अपनी नीवं को और भी मजबूत करने की कोशिश कर रहा है |

पिछले साल से ही, कंपनी अपने कार्यकारी दल का निर्माण कर रही थी और Paytm मुख्यालय से बाहर काम करते हुए, अपने पुनर्विक्रेता नेटवर्क को मजबूत करने पर भी ध्यान दे रही थी | कंपनी ने हाल ही में Flipkart की पूर्व एचआर डायरेक्टर, प्रिया चेरियन और McKinsey अधिकारी, माधुर दीप जैसे वरिष्ठ अधिकारियों को अपने वरिष्ठ उपाध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया है | वे दोनों वर्तमान में Alibaba Group के ग्लोबल एमडी, गुरु गोवर्पपान को रिपोर्ट कर रहे हैं, जो भारत में विस्तार का नेतृत्व कर रहे हैं |

इस बीच हम जल्द ही Alibaba द्वारा परिचालन शुरू करने की उम्मीद कर सकते हैं |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन