खबर भविष्यकाल

नासा के शोधकर्ताओं ने बनाई ‘संवेदी त्वचा’, अंतरिक्ष यान में हुई क्षति का लगाएगी पता

आज तक अंतरिक्ष में घूमने वाले अंतरिक्ष यानों को बाहरी क्षति के समय, क्षति की सटीक पहचान के लिए नासा के तरीकों में एक विस्तृत आयाम जुड़ा है | दरसल, शोधकर्ताओं ने अब एक अनोखी तकनीक विकसित की है जिसे ‘संवेदी त्वचा’ का नाम दिया गया है, जो वास्तविक समय में अंतरिक्ष यान की बाहरी सतह को हुए नुकसान का संकेत देने का कार्य करेगी |

इससे पहले, अंतरिक्ष यान के अंदर अंतरिक्ष यात्रियों और वैज्ञानिकों को एक कैमरा या नग्न आंखों के माध्यम से नुकसान का पता लगाने संबंधी एक महत्वपूर्ण चुनौती का सामना करना पड़ता था | इस तरह के नुकसान आमतौर पर माईक्रोमेटोरोराइड्स और निचले कक्षीय मलबे के कारण होते हैं, जो अंतरिक्ष यान की तुलना में बहुत उच्च गति से यात्रा कर रहे होतें हैं |

लेकिन, नासा के वैज्ञानिकों द्वारा हाल ही में विकसित की गई ‘Flexible Damage Detection System’ तकनीक का उपयोग करके इन चुनौतियों का सफाया किया जा सकता है | इसको अनौपचारिक रूप से संवेदी त्वचा के रूप में जाना जाता है | यह तकनीक कई तकनीकों का एकीकरण करके तैयार की गई है |

इसमें कम वोल्टेज बिजली के सर्किट बनाने की पद्धति का उपयोग किया गया है, जो कि Kapton थर्मल इन्सुलेशन फिल्म की पतली परतों पर मुद्रित किया जाता है | अंततः इसको कंप्यूटर पैनल से जोड़ कर, अंतरिक्ष यान की सतह पर चार्ज में मामूली बदलावों का पता लगाने के लिए आवश्यक सॉफ़्टवेयर का इस्तेमाल किया जाता है | जिसके उम्मीदतन कंप्यूटर स्क्रीन पर तुरंत प्रदर्शित किया जा सकेगा |

इस नई तकनीक निश्चित रूप से भविष्य के अंतरिक्ष यान, उपग्रहों और बड़े नुकसानदेह संरचनाओं को व्यापक नुकसान से सुरक्षित रखने में मदद करेगी |

यह ‘संवेदी त्वचा’ प्रौद्योगिकी कम से कम नुकसान पर भी अंतरिक्ष यात्रियों को सूचित करेगी, जो कि शायद बाद में घातक साबित हो सकती है | इसके जरिये किसी भी आगामी नुकसान से बचने के लिए तत्काल कदम उठाया जा सके |  

यह तकनीक न केवल अंतरिक्ष में संरचनाओं की सतह की रक्षा करेगी बल्कि पृथ्वी पर भी इसकी उपयोगिता होगी | हवाई जहाज के बाहर इस ‘त्वचा’ का उपयोग कर पायलटों को एयरफ्रेम के किसी भी नुकसान का पता लगा सकने में मदद मिल सकेगी |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन