ई-कॉमर्स खबर

Amazon करेगा भारत के खाद्य खुदरा बाजार में 500 मिलियन डॉलर का निवेश

अपने प्रतिद्वंद्वी Flipkart द्वारा बिलियन डॉलर का निवेश अर्जित करने और eBay के अधिग्रहण के साथ भविष्य की संभावनाओं का आभास करते हुए Amazon India अब नई योजनाओं के साथ आया है | अमेरिका की यह ई-कॉमर्स प्रमुख अब देश के खाद्य रिटेल क्षेत्र में करीब 500 मिलियन डॉलर का निवेश करने की योजना बना रही है |  कंपनी ने खाद्य प्रसंस्करण मंत्री, हरसिमरत कौर बादल से गुरुवार को अपने विचारों और रणनीतियों पर चर्चा की है |

Amazon के लिए योजनाओं का विवरण देने के अलावा, हरसिमरात ने TOI को बताया कि जर्मनी के Metro Cash & Carry भी भारत के खाद्य रिटेल क्षेत्र में दिलचस्पी दिखा रही है | यह थोक व्यापारी 50 स्टोरों के साथ भारत के कारोबार का आगाज़ करेगा |

हम आपको बता दें कि चूंकि भारत सरकार खाद्य उत्पादों के कारोबार में 100% एफडीआई की अनुमति देती है, इसलिए अंतर्राष्ट्रीय दिग्गज़ लगातार देश के भीतर घुसने के अवसर तलाश रहे हैं |

ऐसे भत्ते कंपनियों को देकर सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती है कि कृषि उत्पादन का कुशल उपयोग हो और भारतीय किसानों का शोषण करने वाले मध्यस्थों की भूमिका को खत्म किया जा सके |

यदि एक संगठित चैनल खाद्य रिटेल क्षेत्र में प्रवेश करता है, तो यह किसानों को सही कीमत प्रदान करेगा और साथ ही साथ ग्राहकों को नवीनतम स्रोतों की पेशकश भी करेगा | बाजार तक पहुंच की अनुपस्थिति के कारण, लगभग 40% उपज बर्बाद होकर, खाद्य उत्पादकों की पहले से कम आय को और प्रभावित करती है |

इस क्षेत्र में निवेश के साथ ही, किसानों को भी उत्पाद की गुणवत्ता सुनिश्चित करनी पड़ेगी ताकि देश से निर्यात करने की संभावनाओं को बल मिल सके | इसके साथ ही यह खाद्य अपव्यय को भी बचाएगा |Amazon के अलावा Big Basket और Grofers जैसी घरेलू-उत्पादित रिटेल ने ईटी और मोर्टार स्टोर्स के जरिए खाद्य खुदरा क्षेत्र में प्रवेश करने की अपनी एफडीआई योजनाओं को पेश किया है |

हालांकि खाद्य केवल एकमात्र क्षेत्र नहीं है, जिस पर इन कंपनियों की निगाहें हैं, बल्कि इसके साथ ही यह अन्य उपभोक्ता उत्पादों जैसे साबुन और शैंपू जैसे सामान्य व्यापार के योजनाबद्ध आउटलेट के माध्यम से व्यापार की मांग करते नज़र आ रहें हैं | हालाँकि अभी तक सरकार ने इन माँगों का जवाब नहीं दिया है |

लेकिन आज के परिवेश में संभवनाएं यह हैं कि एक व्यावहारिक व्यवसाय को आवश्यक उत्पादों के साथ खाद्य उत्पादों के संयोजन में शामिल किया जा सकता है और इसलिए कंपनियों के लिए भी पर्याप्त अवसर मौजूद हैं |

घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय कंपनियों की योजनाओं का विवरण देते हुए मंत्री ने कहा,

“ Amazon ने ई-खुदरा खाद्य क्षेत्र में प्रवेश का फैसला किया है, वे ई-रिटेल में ईंट और मोर्टार को अलग करने जा रहे हैं, हालाँकि इन खुदरा विक्रेताओं को अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए सर्वोत्तम मूल्य प्राप्त करना होगा और शायद इसलिए, कंपनियों को किसानों के साथ लिंक करना होगा और उन्हें बुनियादी सुविधाओं, गुणवत्ता वाले बीज, ज्ञान, और सहयोग इत्यादि प्रदान करना होगा, जो आज की जरूरत भी है ”

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन