E-Commerce News Start-Ups

Snapdeal ने ‘जेसन कोठारी’ को बनाया Freecharge का नया सीईओ, साथ ही किया $20 मिलियन का ‘अतिरिक्त निवेश’

ख़ुद स्वयं की हालत नाजुक होने के बावजूद, Snapdeal लगातार अपनी डिजिटल पेमेंट सेवा, FreeCharge के सही ढंग से चलाये रखने के बारे में सोचती नज़र आ रही है | पूर्व सीईओ, गोविंद राजन के प्रस्थान के बाद, यह कंपनी बिना किसी भी चीफ एग्जिक्यूटिव के महीनें भर में काम कर रही थी |

लेकिन, Snapdeal ने अब अपने इस व्यावसायिक इकाई में 20 मिलियन डालर के अतिरिक्त निवेश के साथ ही, जेसन कोठारी को नया मुख्य कार्यकारी अधिकारी बना, इन संकटों को खत्म करने का प्रयास किया है |

जेसन कोठारी दो महीनें पहले ही Housing.com का साथ छोड़ Snapdeal के साथ जुड़े थे | इसी के साथ ही एक छोटी अवधि के भीतर ही उन्हें कहीं अधिक ज़िम्मेदारियों से लाद दिया गया है |

सबसे पहले, उन्हें Snapdeal का मुख्य रणनीति और निवेश अधिकारी नियुक्त किया गया था, लेकिन फिर उन्हें FreeCharge के संचालन के प्रबंधन के साथ काम देखने को कहा गया | और अब वह इस डिजिटल भुगतान इकाई के पुरे बोझ को उठाने के लिए अग्रणी तौर पर लाए गए हैं |

FreeCharge के सीईओ और Snapdeal के मुख्य रणनीति और निवेश अधिकारी, जेसन कोठारी ने कहा,

“ 2025 तक भारत में डिजिटल भुगतान की संख्या क़रीब 1 ट्रिलियन डॉलर से अधिक होने की भविष्यवाणी की जा रही है, और जिसके चलते मुझे इस उद्योग में इस तरह के उच्च-विकास और गतिशील समय पर FreeCharge के प्रतिभाशाली दल में शामिल होने पर काफ़ी प्रसन्नता हो रही है, साथ ही मुझे उम्मीद है कि FreeCharge डिजिटल क्रांति के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाना जारी रखेगा ”

इसी के साथ ही नियुक्ति पर टिप्पणी करते हुए, Snapdeal के सह-संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, कुणाल बहल ने कहा,

“ जैसा कि भारत नकदहीन और डिजिटल अर्थव्यवस्था की दिशा में आगे बढ़ रहा है, हमें यह भरोसा है कि FreeCharge इस दौर में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा, हम FreeCharge की सफलता और दूरदर्शिता को लेकर प्रतिबद्ध हैं, जेसन एक मजबूत, रणनीतिक और बहुमुखी व्यापारिक नेता और उद्यमी हैं, जो पहले से ही दो सफल कंपनियों के सीईओ रहे हैं, हम FreeCharge में उनकी नेतृत्व की भूमिका की घोषणा करते ही काफ़ी प्रसन्न हैं ”

नए सीईओ की घोषणा के अलावा, Snapdeal ने नवाचार और विकास में तेजी लाने के लिए कंपनी में 20 मिलियन डॉलर का निवेश करने को लेकर प्रतिबद्धता जताई है | हालांकि, यह देखना काफ़ी दिलचस्प होगा कि कंपनी कैसे इस निवेश की योजना को अंजाम देती है, क्योंकि Snapdeal खुद भी पूंजी संकट से गुजर रही है और यहाँ तक कि यह बंद होने की कगार पर है |

हालांकि, सरकार की विमुद्रीकरण की नीति FreeCharge के उपयोगकर्ता आधार और लेन-देन संख्याओं में बड़े पैमाने पर तेज़ी लाने का कारण जरुर बनी, लेकिन देश में डिजिटल वॉलेट और मोबाइल पेमेंट क्षेत्र में Paytm से आगे निकल पाना अभी भी इस कंपनी के लिए काफ़ी मुश्किल साबित हो रहा है |

FreeCharge में 20 मिलियन डॉलर के निवेश की घोषणा करते हुए यह पुष्टि की गई है कि यह ई-कॉमर्स दिग्गज कभी भी अपने इस भुगतान प्लेटफॉर्म को बेचने की योजना नहीं बना रही है | हालाँकि इससे पहले, यह सूचित किया गया था कि Snapdeal  पूंजी की कमी के चलते, 500 मिलियन डॉलर की एवज में FreeCharge को PayPal को बेचने पर बातचीत कर रही थी |

चूंकि Snapdeal पूंजी की कमी से ग्रस्त है, इसलिए यह कई लागतों में कटौती के साथ-साथ राजस्व में अतिरिक्त आय के उपायों को अपनाने की योजना भी बना रही है | इसी के चलते कंपनी ने अपने 30% कर्मचारियों के निष्कासन का मन बनाया था, जिसके परिणामस्वरूप 600 से अधिक कर्मचारियों को निकाला गया |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन