एप्पल खबर

Apple अपने चीनी शोध संस्थानों में करेगी $500 मिलियन का निवेश

Apple ने अब तक जो भी होसिल किया है, उसमें शोध का बहुत ही बड़ा योगदान रहा है। इसी लिये कंपनी शोध में निवेश करने से कतराती भी नहीं है। असी परंपका के चलते, कंपनी ने चीन में नये शोध संस्थानों की घोषणा करी है।

कंपनी ने इस बात की कोई अधिकारिक घोषणा तो नहीं करी है, परंतु उन्होंने अपनी चीनी वेबसाइट के ज़रिये ये ज़रूर ज़ाहिर किया है कि वे शंघाई व सुज़ोहू में दो शोध व विकास संस्थान स्थापित करने का विचार कर रहे हैं। संभवतः, कंपनी इसी के चलते, 3.5 बिलियन युआन (करीब $500 मिलियन) का निवेश भी करने के विचार में है।

Apple ने बीजिंग और शेनज़ेन में शोध संस्थान स्थापित करने की घोषणा पहले ही कर दी थी। उनके व इन शोध संस्थानों के साथ, चीन में इनके शोध संस्थानों की संख्या कुल चार हो जायेगी। कंपनी के पास पहले ही फ़्रांस, इज़राइल, यू. के., जापान व स्वीडन में निवेश शोध संस्थान हैं। परंतु चीनी शोध संस्थान उनके लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं।

सबसे पहले तो इन शोध संस्थानों के वैज्ञानिक, सप्लाई चेन बहतर बनाने कि ओर काम करेंगे। ये ज़रूरी भी है, क्योंकि Apple की सप्लाई चेन का एक बहुत बड़ा हिस्सा चीन में है। साथ ही, ये ध्यान में रखें कि चीनी लोग बातों को गुप्त रखनें में बहुत माहिर हैं, तो Apple के लिये सभी नेट्वर्को, के साथ काम करना और प्रॉपराइटरी प्रोटोकॉल भी देखना, बिलकुल संभव होगा।

साथ ही, इतने निवेश उस देश की सरकार को आपकी ओर और भी मुलायम बना देती है, जिससे कि आप भविष्य में उनसे भी कुछ फ़ेवर ले सकें। कंपनी ने चीन में नये रीटेल स्टोर की घोषणा भी कुछ दिन पहले ही करी थी, जिससे ये स्पष्ट होता है कि इस कूपरटीनो स्थित कंपनी के लिये चीन एक महत्वपूर्ण बाज़ार है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन