News Start-Ups

TVF के सीईओ, ‘अरुणभ कुमार’ पर लगाया गया “दुरुपयोग और छेड़छाड़” का आरोप

कार्यस्थल के नस्लवाद और उत्पीड़न की आश्चर्यजनक और अनपेक्षित कहानियां आज सिलिकॉन वैली के कार्यालयों से भारत तक पहुंच गई हैं | Uber में बड़े पैमाने पर यौन उत्पीड़न के आरोपों के बाद, आज भारत के सबसे बड़े मीडिया और मनोरंजन पावरहाउस में से एक, The Viral Fever (TVF) भी इसकी चपेट में आता दिख रहा है |

TVF के संस्थापक और सीईओ अरुणभ कुमार पर कथित तौर रूप से Medium पर एक गुमनाम ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से एक पूर्व महिला कर्मचारी द्वारा “दुरुपयोग और छेड़छाड़” का आरोप लगाया गया है | चूंकि इस ब्लॉग पोस्ट को एक काल्पनिक नाम “इंडियन फ़ॉलर” के तहत लिखा गया है, इसलिए वर्तमान में इस मीडिया पावरहाउस के संस्थापक के खिलाफ उसके आरोपों की प्रामाणिकता की पुष्टि करने का कोई रास्ता दिखाई नहीं देता है | लेकिन, एक अन्य पूर्व टीवीएफ कर्मचारी आयुषी अग्रवाल ने ब्लॉग पोस्ट के टिप्पणी अनुभाग में गुमनाम पूर्व कर्मचारी का समर्थन किया है |

इस ब्लॉग पोस्ट में, पूर्व कर्मचारी (आसानी के लिए उसका नाम ‘गीता’ नाम लेते हैं) ने अरुणभ पर कथित तौर पर उसके लिंग को लेकर कथित टिप्पणी और उत्पीड़न के उदाहरणों को प्रकाश में लाया है | गीता ने इस तथ्य पर प्रकाश डालते वक़्त सबसे पहले इस बात का भी जिक्र किया कि वह और अरुणभ एक ही मूल शहर के हैं, जो है बिहार का मुज़फ़्फ़रपुर |

गीता कहती हैं कि

जब ज्यादातर TVF टीम शो के चलते घर से दूर काम कर रही थीं, चीज़ों को हक़ीकत बना रहीं थीं, तब अरुणभ अपनी सपनों की टीम का निर्माण करने के लिए प्रतिभा की खोज कर रहे थे | बाद में गीता भी उसी टीम का हिस्सा बन गई थी, लेकिन बाद एमिन उन्हें पता लगा कि वह भी अरुणभ के इस खेल में एक खिलौने के समान हैं, जिसके साथ सिर्फ़ खेल खेला जा रहा है |

उसी के बारे में ब्लॉग पोस्ट में वर्णित किया गया है,

“ जवाब था, वह प्रतिभा की भर्ती कर रहें हैं, हाँ वो भर्ती कर रहे थे, लेकिन प्रतिभा ही या किस की, ये मुझे नहीं पता, लेकिन हाँ 3 साल बाद मुझे पता लगा की वह असल में किसकी भर्ती कर रहे थे, वह अपने खिलौने की तैयारी कर रहे थे, और हाँ, यही है मेरी दुर्व्यवहार और छेड़छाड़ की कहानी ”

इसके बाद गीता यह बताती हैं कि TVF मिएँ कार्य करते हुए महज़ 21 दिन बाद उनके साथ क्या हुआ | वह कहतीं हैं कि अरुणभ ने उसे एक दिन कार्यालय में बुलाया था, उन्होंने कहा कि उसने अपने काम के कुछ हिस्से को पूरा किए बिना छोड़ दिया है | और जब वह कार्यालय में वापस आई (जो कि रिक्त था), अरुणभ ने काम के बारे में बात करने की बजाए, उसे एक वाणिज्यिक सौदे पर बात करना शुरू किया, जिसका साफ़ सा संदर्भ वाणिज्यिक सेक्स वर्कर से था |

अरुणभ एक आकस्मिक तरीके से एक कुर्सी पर बैठे थे | मैं उनके पास गई तो उन्होंने कहा मुझसे पूछा, “चतुरभुज स्थान का नाम सुनी हो”? मैं स्तब्ध रह गई क्योंकि चतुरभोज स्थान मुजफ्फरपुर जिले का रेड लाइट क्षेत्र है | इसलिए मैंने इसका जवाब नहीं दिया |

उनका दूसरा सवाल था, “हमको चतुरभुज स्थान बहुत पसंद है” उधर व्यापारिक सौदों होतें हैं, और तुम भी तो एक व्यापारिक सौदे पर ही आई हो”? मुझे एहसास हो गया कि वह चर्चा को कहाँ ले जा रहें हैं और इसीलिए मई इन सब बातचीत से बचती रही |

मैंने कहा “अरुणभ, आप में बड़े जैसे भाई हैं, मेरी तबियत थोड़ी ठीक नहीं है तो क्या करना हैं बताईये ? हम काम खत्म करके घर जाए”  लेकिन वह अचानक से उठे और मेरा हाथ पकड़ते हुए कहा “मैडम, थोड़ा रोल प्ले करना है” और यह सुन मैं चकित रह गई

मैंने ऐसा कुछ इससे पहले कभी नहीं सुना था | इसलिए मैं वहाँ से भाग कर सीधे शौचालय में गई और ख़ुद को बंद कर लिया | बाद में वह वहाँ से चले गए |

इसके साथ ही गीता ने ऐसे कई उदाहरण पेश किए, जिनमें Ola टीम, KRK और नवीन कस्तूरिया जैसे नाम भी शुमार थे | इसके साथ ही गीता ने यह भी कहा कि अरुणभ नशे में होने का नाटक करते हुए दिख रहे थे, जिससे वह उसको ऊपर उठा सके या उसके ऊपर गिरने की कोशिश कर सकें |

साथ ही उसने यह भी बताया कि एक बार Ola टीम के साथ मीटिंग के दौरान, उन्होंने एक त्वरित चर्चा के लिए उसे बुलाया और एक बार फिर से उससे सेक्स के लिए अनुरोध किया | इसके बाद गीता ने TVF के कार्यालय में कभी न जाने का निर्णय किया, जिसके बाद कंपनी के कानूनी दल ने अनुबंध के उल्लंघन को लेकर उन्हें परेशान करना शुरू किया |

इन तथ्यों का समर्थन TVF की ही एक कर्मचारी, आयुषी अग्रवाल में किया, जिनका नाम आपने Screen Patti के विडियो में भी देखा होगा | अग्रवाल का कहना है कि उन्होंने भी इसी तरह के अनुभवों से पीड़ित होकर हैं और इन बुरी परिस्थितियों के कारण कंपनी का साथ छोड़ा |

जैसे की हम सब जानते हैं कि TVF एक युवा मीडिया ब्रांड है और ऐसे में इसके सीईओ और ऐसे आरोप इसकी ब्रांड छवि को काफ़ी प्रभावित कर सकतें हैं, जो कंपनी के लिए असल मायनों में काफ़ी नुकसानदेह साबित हो सकता है |

हालाँकि इस पर कंपनी का कहना है कि,

“ यह इंडियन फ़ॉलर द्वारा Medium पर प्रकाशित गुमनाम लेख पर TVF की तरफ़ से एक आधिकारिक प्रतिक्रिया है, यह लेख पूरी तरह से हास्यास्पद है और TVFऔर उसकी टीम के खिलाफ बदनामी की साजिश मात्र है, इस लेख में TVF और उसकी टीम के खिलाफ लगाये गए सभी आरोप स्पष्ट रूप से झूठे, निराधार और असत्यापित हैं, हमारी टीम पर हम बहुत गर्व करते हैं और TVF एक सुरक्षित कार्यस्थल है, जो महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए उतना ही आरामदायक है, यह हमारा विनम्र अनुरोध है कि आप इस तरह के एक अप्रतिबंधित, असत्यापित और गुमनाम लेख को कतई साझा न करें ”   

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन