खबर स्टार्टअप्स

IDG Ventures ने भारतीय स्टार्टपों में निवेश करने के लिये Axilor Ventures से की साझेदारी

वेंचर कैपिटल फ़र्म IDG Ventures भारत ने डिसरप्टिव आइडिया वाले भारतीय स्टार्टपों में निवेश करने हेतु शुरवाती चरण के वेंचर कैपिटल फ़र्म Axilor Ventures से साझा किया है।

वेंचर कैपिटल फ़र्म का कहना है कि वे अपने इस Frontier Tech Innovators कार्यक्रम के चलते केवल ऐसे स्टार्टपों पर केंद्रित होंगी, जो कि कृत्रिम बुद्धी, रोबॉटिक्स, ब्लॉकचेन, वर्चुअल वास्तविकता और ऑगमेंटेड वास्तविकता जैसे “गहरी तकनीक” पर काम कर रहे हों।

इस फ़ंड से IDG Ventures और Axilor Ventures, स्टार्टपों में सीड निवेश व ए सत्र पूर्व निवेश करेंगे। आम तौर पर IDG Ventures शुरवाती चरण में $500,000 से $1 मिलियन और ए सत्र में $3 मिलियन से $5 मिलियन तक का निवेश करते हैं।

“गहरी तकनीक” में निवेश करने की रुची के बारे में बात करते हुए IDG Ventures के संस्थापक व चेयरमैन सुधार सेठी ने कहा:

Frontier Tech Innovators कार्यक्रम के ज़रिये, हम ऐसी डिसरप्टिव सॉफ़्वेयर कंपनियों को ढूंढ़ रहे हैं, जो कि वैश्विक कार्यप्रणाली को बदलने की क्षमता रखे। IDGVI के पास ऐसा गहरी तकनीक कंपनियों ने निवेश करने का अनुभव है, जिसमें Active.ai, Sigtuple, Hansel.io, Infisecure, Forus, Perfint, Axio और Iviz जैसी कंपनियां शामिल हैं।

Infosys और Axilor Ventures के संस्थापक क्रिस गोपालकृष्णन ने साझेदारीे पर बयान देते हुए कहा:

हम भारतीय उद्यमियों के फ़्रंटियर तकनीक की सहायता से गहरी तकनीक उपायों का उपयोग कर भारत व विश्व की परेशानियों को सुलझाने के एंबिशन को लेकर उत्साहित हैं। इस कार्यक्रम के ज़रिये, Axilor बहतरीन उद्यमियों को सपोर्ट व मेंटर करते रहेंगे।

पिछले वर्ष IDG Ventures ने देश के शुरवाती दौर के इंटरनेट प्रयासों में निवेश करने के लिये ‘Digital Consumers Innovators Program’ शुरू किया था। इस फ़र्म के पोर्टफ़ोलियो में इस समय Flipkart, Lenskart.com और Zivame समेत अन्य कंपनियां हैं।

Axilor Ventures को क्रिस गोपालकृष्णन और Infosys के सहसंस्थापक एस.डी. शिबूलाल ने स्थापित किया था। इनके पास इस समय एक ऐक्सेलेरेटर कार्यक्रम भी है, जिसके माध्यम से ये 2014 में अपनी शुरवात से 30 स्टार्टपों की सहायता कर चुके हैं, और साथ ही, इन्होंने करीब 20 शुरवाती दौर के स्टार्टपों में निवेश भी किया है। ये आम तौर पर एक माइनॉरिटी स्टेक के लिये कंपनी में ₹3 करोड़ तक का निवेश करते हैं और उपभोक्ता इंटरनेट, स्वास्थ्य केयर तकनीक और वित्त तकनीक कि ओर केंद्रित हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन