खबर स्टार्टअप्स

‘FreeCharge’ को पूरी तरह से ‘PayPal’ को सौंपने की तैयारी कर रहा है ‘Snapdeal’

Snapdeal के स्वामित्व वाली डिजिटल भुगतान कंपनी, FreeCharge  के भविष्य को लेकर लगाई जा रही अटकलों को जल्द ही विराम मिल सकता है | रिपोर्ट के मुताबिक PayPal इसका नया घर हो सकता है और अगर ऐसा हुआ तो इस कंपनी को वैश्विक स्तर पर विस्तार के और मौके मिल सकेंगें |

ET की रिपोर्ट के मुताबिक, Snapdeal ने अब आधारित वैश्विक भुगतान कंपनी, PayPal के साथ FreeCharge को बेचने संबंधी बातचीत की पहल कर दी है | यह सौदा इस भारतीय स्टार्टअप का मुल्यानाकं $500 मिलियन के करीब पर कर देगा, जो 2015 में Snapdeal द्वारा अधिकृत करने पर अदा किए गए $400 मिलियन से कहीं ज्यादा है |

इन अफ़वाहों की बात करते हुए, एक सूत्र ने कहा,

“ जब Snapdeal के व्यापार में कोई भी निवेश न करने का मन बना रहा है, तो ऐसे वक़्त में यह सौदा उनकी निवेश संबंधी आवश्यकताओं के पूरक के रूप में कार्य कर सकता है ”

यह बातें ऐसे वक़्त में सामने आई हैं जब हाल ही में ही Snapdeal ने बड़े पैमाने पर अपने 600 कर्मचारियों का निष्कासन किया है और साथ ही उनके सा-संस्थापक ने भी अपने पैसों में कटौती की है | इस समय इस स्वदेशी कंपनी को पैसों की कमी से जूझना पड़ रहा है और जिसके चलते यह अपने व्यापार मॉडल में कई बड़े परिवर्तन करने का मन भी बना रही है |

लेकिन इस बीच कंपनी को यह यकीन है कि वह अगले 2 वर्षों में काफ़ी मुनाफ़ा कमायेइगी और इसी पर बात करते हुए, कंपनी के सीईओ, कुणाल बहल ने कहा,

“ मैं आगामी वर्षों में कंपनी द्वारा मुनाफ़ा कमाने के सीधे रास्ते को देख सकता हूँ, इसके साथ ही हमें पूंजी की भी आवश्यकता है, जिससे हम अपने बुनियादी ढांचे को मजबूत कर, अपने भाग्य पर नियंत्रण हासिल कर सकें ”

इसके साथ ही Snapdeal के स्वामित्व वाली, FreeCharge ने भी हाल ही में कई उतार चढ़ाव देखे और साथ ही कई अधिकारी कंपनी का साथ छोड़ते नज़र आये | हाल ही में ही FreeCharge के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, गोविंद राजन ने भी कंपनी का साथ छोड़ दिया |

अब इस इस्तीफे के बाद FreeCharge का व्यापार संचालन Snapdeal के साथ हाल ही में जुड़े कार्यकारी अधिकारी को सौंपा गया है | हाल ही में Snapdeal के मुख्य रणनीति और निवेश अधिकारी के रूप में नियुक्त हुए, पूर्व Housing.com सीईओ जेसन कोठारी अब इस डिजिटल वॉलेट की ज़िम्मेदारी संभालेंगें |

हालाँकि इसके पहले भी कईं ख़बरे थीं कि FreeCharge $200 मिलियन में लगभग अपनी 25 प्रतिशत हिस्सेदारी PayPal को बेच सकती है, जिससे की परिपक्व भारतीय डिजिटल भुगतान के क्षेत्र में एक और नामी कंपनी की हिस्सेदारी सुनिश्चित हो सकेगी |

हर नज़रिए से यह PayPal जैसे वैश्विक डिजिटल भुगतान ब्रांड के लिए भारत में प्रवेश का यह उपयुक्त समय है | विमुद्रीकरण (Demonetisation) ने  कैशलेस भुगतान सेवाओं, विशेष रूप से Paytm के लिए बड़े पैमाने पर वृद्धि के दरवाजे खोलें हैं, और  जिसके परिणामस्वरूप आज भारत में डिजिटल भुगतान का प्रचलन तेज़ी से फैलता प्रतीत हो रहा है | इसी के साथ PayPal का भारतीय बजार में आगमन भी काफ़ी दिलचस्प होगा |

इस बीच हमनें FreeCharge और PayPal दोनों से ही इस विषय में अधिक जानकारी हासिल करने हेतु संपर्क करने की कोशिश की है और जल्द ही हम आपको सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करेंगें |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन