खबर गूगल

Google Keep अब G Suite का हिस्सा, और Docs के साथ काम करता ना सकता है नज़र

Google ने आज घोषणा करी कि Evernote और Microsoft के OneNote से प्रतिद्वंद कर रही उनक की नोट लेने वाली ऐप Keep को उन्होंने G Suite के साथ जोड़ दिया है। इसका मतलब ये कि Keep अब और भी करीब होगा और उपभोक्ताओं को अपने आइडिया, रिमाइंडर, चेकलिस्ट, मीटिंग नोट और टू-डू का और आसानी से ध्यान रखने में सहायता करेगा। साथ ही, Keep को Google Docs से भी जोड़ा जा रहा है।

G Suite, जो कि Google के Gmail, Hangouts, Calendar, Google+, Drive, Docs, Sheets का एक समायोजन है, हर उपभोक्ता के लिये मूल रूप से मुफ़्त है। परंतु, कस्टम ई-मेल और बहुत अनलिमिटिड क्लाउड स्टोरेज, एंटरप्राइज़ों को पैसे देकर लेना पड़ता है। एंटरप्राइज़ों को इसके साथ ही अधिक नियंत्रण टूल और अडवांस सेटिंग उपलब्ध हकरायी जाती है, और साथ ही, 24*7 फ़ोन व ई-मेल सपोर्ट भी।

Google का कहना है कि उपभोक्ता, Keep से नोट्स खींच कर सीधे डॉक्युमेंट में डाल सकते हैं। इस सुविधा के लिये आपको पास नेट उपलब्ध होना चाहिये और इसका उपयोग तभी किया जा सकता है जब आपको ब्राउज़र में Docs डाउनलोड हो। इसके बाद, Tools मीनू आपको Keep नोटपैड रखने का विकल्प देगी।

यहां से आप Keep में डाले गये किसी भी नोट, चेकलिस्ट व तस्वीर को अपनी डॉक्युमेंट में खींच कर डाल सकते हैं।

केवल इतना ही नहीं, आप Google Docs पर Keep को खोज भी सकते हैं और किसी डॉक्युमेंट पर काम करती हुए Keep में नोट भी बना सकते हैं। दूसरा करने के लिये, आपको सिलेक्शन पर केवल दायीं क्लिक करनी है और “सेव टू Keep” पर क्लिक करना है। और तो और, कमाल की बात ये है कि जब आप ऐसे नोट बनाते हैं, तो उनमें सोर्स डॉक्युमेंट का एक लिंक भी आ जाता है।

Keep को विस्तृत करना का कदम बहुत ही लाभकारी होगा, क्योंकि अनेकों संस्थान, व्यापार व शैक्षिक संस्थान G Suite के अंदर ही Keep का व इनकी अन्य सेवाओं का उपयोग कर सकते हैं। इस नवीनतम अपडेट के साथ, वे और भी बहुत कुछ करने में सक्षम होंगे।

Keep, G Suite उपभोक्ताओं के लिये आज ही से उपलब्ध है और वे Android, iOS, Chrome व वेब पर इसका उपयोग कर सकते हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन