खबर स्टार्टअप्स

जल्द ही “स्टार्टअप्स को एक बार फ़िर बढ़ावा” देते नज़र आयेंगे Tata Sons के पूर्व चेयरमैन, ‘रतन टाटा’

भारत के स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र में Tata Sons के भूतपूर्व सम्माननीय चेयरमैन, रतन टाटा जैसे सक्षम और दूरदर्शी व्यक्ति की उपस्थिति हमेशा से ही सौभाग्यपूर्ण मानी गई है | लेकिन कुछ समय से अपने समूह में चल रही कार्यकारी चुनौतियों के चलते, उद्योगपति से निवेशक बने, रतन टाटा इन स्टार्टअप परिदृश्य से दूर ही रहे | लेकिन अब एक बार फ़िर वह निजी तौर पर अपनी निवेश गतिविधियों पर वापस लौटने के लिए तैयार हैं |

एक निवेशक के रूप में अपनी यात्रा के बारे में बात करते हुए, रतन टाटा ने कहा,

“ जब मैं 2012 में सेवानिवृत्त हुए, मैंने निवेश के लिए स्टार्टअप्स की ओर रुझान किया और बड़े व्यापार को पीछे छोड़ते हुए, मैंने नवाचार और जोश से उत्साहित इस तंत्र को चुना और यह मुझे प्रेरित करता है ”

“ हालाँकि पिछले पांच महीनों में मुझे पुराने दुनिया में जबरन डाल दिया गया था लेकिन अब मैं स्टार्टअप समुदाय में वापस आने के प्रति उत्साहित हूँ और 23 फरवरी को मेरी वापसी का दिन होगा ”

कल ही Tata Sons की एक सामान्य मीटिंग में, अपदस्थ पूर्व चेयरमैन ‘साइरस मिस्त्री’ को कंपनी से पूरी तरह हटा दिया गया | यह निर्णय उनकों हटाने की कार्यवाई के संबंध में, कंपनी के शेयरधारकों के बहुमत मतदान के बाद ही लिया गया है |

इसके साथ ही पिछले महीने, TCS के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक, एन चंद्रशेखरन के रूप में Tata Sons के नए चेयरमैन को नामित किया गया है और वह जल्द ही अपनी जिम्मेदारियों संभालेंगें, तथा इस अध्यक्षता के लिए उन्होंने रतन टाटा का आभार भी व्यक्त किया है |

इस बीच रतन टाटा ने यह भी कहा,

“ नियामकों को उन क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है, जहां अनुचित प्रतिस्पर्धा है, और स्टार्टअप्स को दबाया जा रहा है, इन सब के बजाए, हमें एक ऐसी जमीन तैयार करनी चाहिए, जहाँ सबको समान अवसर मिल सके ”

रतन टाटा ने 2012 में Tata Sons में अपनी जिम्मेदारियों से मुक्त होने के बाद, ख़ुद को एक निवेशक के रूप में तब्दील कर लिया है | इन्होंने Urban Ladder, Ola Cabs, Madrat Games, Nestaway, Niki.ai, और Snapdeal सहित कई भारतीय और अंतरराष्ट्रीय स्टार्टअप्स में निवेश किया है | इसके बाद भी वह अपने निवेश के प्रयासों को और बढ़ावा देने की तैयारियाँ कर रहें हैं |

खैर ! इस बीच जैसा की हम सब जानते हैं कि रतन टाटा के लिए पिछला कुछ समय सिर दर्द और परेशानियों से भरा रहा है, और वह स्टार्टअप परिदृश्य से थोड़े दूर रहे, लेकिन अब वह एक बार फ़िर अपने दूरदर्शी दृष्टिकोण के साथ वापसी को तैयार नज़र आ रहें हैं |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन