खबर भविष्यकाल

भविष्य की सुपरमार्केट, ‘Amazon Go’ में होगी, महज़ “छह मानव कर्मचारियों” की आवश्यकता

पिछले साल दिसंबर में लॉन्च हुए, Amazon Go ने सबको आश्चर्यचकित कर दिया  था | यह सुविधा एक सुगम खरीदारी की अवधारणा पर आधारित है, जो कतार में खड़े होकर चेकआउट के लिए इंतजार करने या नकदी के साथ भुगतान करने की जरूरत को ख़त्म कर देती है | यह स्टोर ‘मशीन लर्निंग’ और कंप्यूटर दृष्टि प्रौद्योगिकी का उपयोग करतें हैं |

इन्हीं सब के चलते हम आपको बता दें कि New York Post के मुताबिक, इन स्टोरों के संचालन के लिए अधिकतम 10 कर्मचारियों की आवश्यकता होती है |

रिपोर्ट से पता चलता है कि Amazon वर्तमान में अपने स्वचालित सुपरमार्केट के लिए जगह तलाश कर रही है, और संभवतः लंदन भी एक विकल्प हो सकता है | साथ ही कंपनी 40,000 से 10,000 वर्ग फुट के एक क्षेत्र में विस्तार के निर्माण की योजना बना रही है |

यह विशाल स्टोर ताजे फल और सब्जियों, डिब्बा बंद भोजन, पेय पदार्थ, और अन्य सामान सहित क़रीब 4,000 उत्पाद संगृहीत किए होता है |

Amazon Go नामक इन स्टोरों की सबसे बड़ी ख़ासियत है, इनके दिन-प्रतिदिन संचालन में ‘मनुष्यों की संख्या’ | दरअसल जहाँ एक तरफ़ ऐसा माना जा रहा है कि स्टोर को प्रत्येक शिफ्ट में मात्र 10 कर्मचारियों की ही आवश्यकता, वहीं दूसरी तरफ़ कंपनी प्रत्येक शिफ्ट की दृष्टि से सिर्फ़ 6 कर्मचारियों को ही नियुक्त करने का मन बना रही है |

दरसल, इन स्टोरों में अधिकतर कार्य ‘स्वचालित रोबोट’ और ‘उच्च तकनीक के सॉफ्टवेयर प्रौद्योगिकियों’ द्वारा ही हो जातें हैं |

हालाँकि इस रिपोर्ट में दैनिक आधार पर विभिन्न कार्यों के लिए मानव स्टाफ सदस्यों की नियुक्ति की आवश्यकता का भी विवरण दिया गया है | जहाँ एक कर्मचारी स्टॉक में उत्पादों की संख्या को सुनिश्चित करेगा वहीं ‘Amazon Fresh’ किराना डिलीवरी सेवाओं और प्रबंधन कार्यों के चलते कुछ कर्मचारियों की आवश्यकता होगी |

इसके साथ ही Amazon Go में जहाँ गो-थ्रू-विंडो के लिए दो कर्मचारियों की आवश्यकता होगी, वहीं रोबोटिक बैगिंग मशीनों पर भी दो कर्मचारियों की आवश्यकता होगी, जो कन्वेयर बेल्ट के माध्यम से वस्तुओं को पहुँचाने का कार्य करते नज़र आयेंगे |

डिपार्टमेंटल स्टोर में दैनिक कार्यों के स्वचालित भविष्य को लेकर इसके निर्माण का प्राथमिक लक्ष्य, श्रम लागत में कटौती करना है | वास्तव में ऐसा एक स्टोर Seattle में स्थित है, जो ‘वॉक-आउट प्रौद्योगिकी’ पर आधारित है, जिसने कैशियर को सिस्टम से हटा दिया है | इसके अलावा, भुगतान आपके अमेज़न खाते से Amazon Go परिसर में प्रवेश के वक़्त स्कैन द्वारा ही हो जाता है |

हालाँकि कंपनी के मुताबिक अगल अलग स्टोर स्वरूपों के माध्यम से अधिक से अधिक स्थानों में व्यापक प्रयास किया जाएगा, लेकिन एक नई बात जो इन सब के बीच सामने आई वह यह कि कंपनी स्टोरों के दो मंजिला मॉडल से इंकार कर रही है | इसके साथ ही Amazon के एक प्रवक्ता ने कहा कि,

“ हम इस तर्ज़ पर किसी भी स्टोर के निर्माण संबंधी योजना नहीं बना रहें हैं, और ऐसी कोई भी बातों या कहानियों पर आप विश्वास न करें ”

लेकिन इन सब के बीच सबको इंतजार है तो बस इसको लेकर कंपनी के अधिकारिक बयान या अधिकारिक ब्लॉग पोस्ट का, जिससे यह सब बातें बिल्कुल स्पष्ट हो जायेंगी |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन