इंटरनेट खबर

Facebook अब ‘प्रचलित’ के बजाये, ‘असल’ ख़बरों को बढ़ावा देने के लिये बदल रहा है अपनी फ़ीड

Facebook अपनी न्यूज़ फ़ीड में एक और बड़ा परिवर्तन लाने जा रही है। कंपनी ये सुनिश्चित करने का प्रयास कर रही है कि उनकी न्यूज़ फ़ीड असल ख़बरों से भरी हो, न कि सनसनी वाली झूठी ख़बर से। इसके लिये, कंपनी ने कुछ नये ऐल्गॉरिदम बदलाव किये हैं।

Facebook ने ऐसे पेजों को एक सूचिबद्ध कर लिया है, जो झूठी ख़बरें फैलाने के लिये प्रचलित हैं। इसमें Clickbait Headlines भी शामिल है। Facebook इनके द्वारा डाली गयी ख़बर का उपयोग कर ऐल्गॉरिदम को ट्रेन कर रही है। ट्रेन होने के बाद, Facebook अपनी ट्रेनिंग में उपयोग हुई ख़बरों जैसी ही ख़बरें ढूंढ़ेगा और अगर वो पोस्ट झूठी या ग़लत ख़बर की श्रेणी में नहीं बैठकी, तो उसे Facebook कि ओर से थोड़ा और बढ़ावा दे दिया जायोगा।

दूसरा बदलाव वाइरल हुई ख़बर को लेकर किया जाना है। Facebook ये सुनिश्चित करना चाहती है कि वाइरल हुई ख़बर आपको भी आपकी फ़ीड में दिखाई पड़े। परंतु क्या वाइरल है, इसका निर्णय कौन करेगा? खैर, ये वो ख़बर होगी, जिसके बारे में या तो बहुत लोग पोस्ट कर रहे हैं, या किसी द्वारा पोस्ट किये गये आर्टिकल को बहुत सा तवज्जो मिल रही हो। ऐसा चीज़ों को Facebook आपको आपकी फ़ीड में दिखायेगी।

ये सब प्रयास, और Facebook द्वारा हाल ही में घोषित करी गयी सभी साझेदारियां ये सुनिश्चित करने के लिये हैं कि मंच पर झूठी ख़बरें न मिलें। US के चुनावों के बाद से, लोग Facebook पर उपलब्ध ख़बरों पर भरोसा नहीं कर रहे हैं। यदि आपको याद न हो तो बता दें कि कई लोगों का मानना है कि झूठी ख़बरों ने ट्रंप को चुनाव जीच़तने में सहायता करी थी।

खैर, कंपनी नहीं चाहती कि ये एक ऐसा मंच हो, जहां कुछ भी वाइरल हो जाये। ये नवीनतम बदलाव इसी ओर एक प्रयास हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन