खबर स्टार्टअप्स

Tesla ने कैलिफोर्निया में बनाई, दुनिया की सबसे बड़ी ‘बैटरी भंडारण सुविधा’

Tesla ने सोमवार को कैलिफोर्निया में अब तक के दुनिया के सबसे बड़े ‘बैटरी भंडारण सुविधा’ का अनावरण किया | ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार, इसी के साथ ही यह AES और Altagas द्वारा बनाई गई समान सुविधा का हिस्सा बन गया है |

वर्तमान में, संयुक्त रूप से यह दुनिया भर के बैटरी भंडारण सुविधाओं में 15 प्रतिशत की हिस्सेदारी रखता है |

न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार, प्रत्येक घटक, 16,000 लिथियम-आयन बैटरी कोशिकाओं को संयोजित करता है | यह दिनभर में ग्रिड से बिजली अवशोषित कर, मांग बढ़ते समय उसके पूरक के रूप में कार्य करते हैं |

15,000 घरों को ऊर्जा प्रदान करने में सक्षम यह सिस्टम, लॉस एंजिल्स के निकट एक प्राकृतिक गैस संयंत्र में मीथेन रिसाव के बाद अनुमानित ऊर्जा की कमी के खिलाफ एक बैकअप के रूप में कार्यरत होगा |

Tesla जिसने Nevada स्थित ‘Giga-Factory’ परियोजना में 5 बिलियन डॉलर का निवेश किया था, उसके लिए यह प्रोजेक्ट भी उतना ही महत्वपूर्ण है, क्योंकि ग्रिड पैमाने पर पायलट प्रोजेक्ट के आधार से परे, पहली बार एक ऐसी प्रणाली ऑनलाइन की जा रही है |

शुक्रवार को Tesla के मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी, J.B. Straubel ने ब्लूमबर्ग को बताया,

“ जिस गति से यह कार्य संपन्न हो रहा है, ऐसे में कई बार इसकी जटिलताओं को समझने में मुश्किलें आती हैं, हमारी भंडारण क्षमता उसी रफ़्तार से बढ़ रही है, जितना इसकी जरूरतों को लेकर इंसानी सोच ”

हालाँकि अभी तक, मांग वृद्धि के हालातों में बैटरी भंडारण, प्राकृतिक गैस प्लांट की तुलना में कहीं अधिक खर्चीले साबित होते रहें हैं | लेकिन पिछले दो सालों में लिथियम आयन बैटरी की कीमतों में तेजी से गिरावट के चलते, यह प्रौद्योगिकी कहीं अधिक व्यावहारिक रूप लेते नज़र आई है |

2014 की तुलना में आज यह लिथियम आयन बैटरियाँ लगभग आधी कीमतों पर उपलब्ध हैं |

खैर ! अब देखने वाली बात यह है कि यह तकनीक कंपनी और पर्यावरण दोनों को किस हद तक संतुष्ट कर पाती है |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन