खबर

Lyft ने इमिग्रेशन विरोधी नियम का किया बहिष्कार, ACLU में करेंगे $1 मिलियन का दान

US के राष्ट्रपती डॉनल्ड ट्रंप द्वारा जारी किये गये सात देशों से आने वाले इमिग्रेंटों के बैन पर अभी तक की सबसे कठोर प्रतिक्रिया में कैब ऐग्रिगेटर कंपनी Lyft ने इसे सभी को सम्मिलित करने वाले अमेरिकी समाज के लिये खतरा भी बताया है। इसी के चलते, उन्होंने ACLU को $1 मिलियन का दान देने की बात भी कही।

Lyft उन तकनीक कंपनियों की कतार में जुड़ गयी है, जिन्होंने इस बैन कि विरुद्ध अपनी आवाज़ उठाई है, जिनमें इनकी प्रतिद्वंदी Uber के अलावा Facebook, Google और Microsoft शामिल हैं। परंतु जहां सब ने इसकी निंदा दबे शब्दों में करी, Lyft ने खुले रूप से इसे असांवैधैनिक कदम बताया है।

कंपनी के संस्थापकों द्वारा जारी किये गये एक पत्र के अनुसार:

हमने Lyft की स्थापना, हमारी इच्छा के समाज का एक दर्पऩ बनाने के लिये कि थी: एक विविध, सम्मिलित करने वाला और सुरक्षित समाज।

इस सप्ताह अंत ट्रंप ने कई इमिग्रेंटों, रेफ़्यूजियों और यहां तक कि यहां रहने वाले पंजीकृत नागरिकों को इस देश से बैन कर दिया, वो भी केवल उनका देश कौन सा है ये देख कर। किसी भी व्यक्ति को उनका जात, रंग, पहचान, सेक्शुऐलिटी व एथनिसिटी के कारण बैन करना Lyft के लिये एथिक के विरुद्ध है और हमारे देश के मूलों से भी विरुद्ध है। हम इसके विरुद्ध हैं और अगर किसी भी चीज़ से हमारे समाज के मूलों को ठेसपहुंचती है तो हम चुप नहीं रहेंगे।

हमें पता है कि इसका हमारे समाज के कई लोगों, उनके परिवारों और दोस्तों पर बहुत प्रभाव पड़ रहा है। हम आपको साथ हैं और हमारे संविधान की सुरक्षा करने के लिये आने वाले 4 सालों में हम ACLU को $1,000,000,000 का सहयोग देंगे। हमें उम्मीद है कि आप ऐसे समय में एक दूसरे का साथ देते हुए खड़े रहेंगे और एक साथ, ये साबित करेंगे के एक समाज में कितना ताक़त होती है।

जॉन व लोगन

Lyft के सहसंस्थापक

एक छोटा सी जीत के तौर पर, अमेरिकी सिविल राइट युनियन (ACLU) ने इस आदेश पर स्टे का ऑर्डर तो ले लिया है। परंतु ट्रंप के पास अपार शक्तियां हैं और ये स्टे कुछ समय तक ही रहने की आशंका है। इसके पूरी तरह खारिज होने से पहले एक बहुत लंबी व गंदगी भरी लड़ाई होगी।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन