खबर भविष्यकाल

Nokia ने इंजीनियरों के लिए लाया नया निजी असिस्टंट, ‘MIKA’

MIKA, Muliti-Purpose Knowledge Assistant का छोटा रूप है। परंतु इससे पहले कि आप मज़बूत Nokia 1100 की मज़बूती वाले फ़ोन के अंदर MIKA जैसे असिस्टंट की क्षमता के सुने देखने लगें, हम आपको बता देते हैं कि MIKA केवल इंजीनियरों और टेलिकॉम ऑपरेटरों के लिये है, जिससे कि वे आवाज़ के ज़रिये कंप्यूटर पर चीज़ें खोज सकें।

इसकी घोषणा करते हुए कंपनी ने कहा:

Nokia द्वारा बनाया गया ये “डिजिटल असिस्टंट”, इंजीनियरों को आसानी से जानकारी खोज पाने में सहायता कर के टेलिकॉम ऑपरेटरों का कार्य आसान करेगा।

असिस्टंट को मुख्यतः इंजीनियरों और टेलिकॉम ऑपरेटरों जैसे लोगों के सवालों का जवाब देने के लिये बनाया गया है। तो ये आम कृत्रिम बुद्धी असिस्टंट से कैसे अलग है? दरसल, जहां Siri या Cortana केवल उपभोक्ता के प्रश्नों का उत्तर दे ब़पाने में ही सक्षम हैं, वहीं MIKA को पेंचीदा इंजीनियरिंग प्रश्नों का हल निकालने के लिये बनाया गया है।

Nokia AVA कॉगनिटिव सेवा मंच द्वारा पावर और Nokia सेवा एक्स्पर्टीज़ द्वारा अंडरपिन MIKA, जल्द ही आवाज़ द्वारा डिकटेट की गयी स्वचलित असिस्टेंस उपलब्ध करायेगा, जिससे कि खोज समय बहुत कम हो जायेगा। इससे, ऑपरेटर पूरी तरह अपने कार्य पर केंद्रित रह सकेंगे बिना विविध तकनीकों के जाल में उलझे़।

कंपनी का रहना है कि MIKA का उपयोग कर कर्मचारी दिन में करीब एक घंटे तक बचा सकेंगे। ये उन्हें एक बात करने वाले UI के उपयोग से आसानी से जानकारी उपलब्ध करा कर और सुझाव देकर उन्हें हर चीज़ के लिये Google खोलने की झंझट से बचायेगा।

मुद्दे पर बात करते हुए कंपनी के वैश्विक सेवाओं के प्रमुख ईगोर लेप्रिंस ने कहा:

नेट्वर्क गुणवत्ता बढ़ाने की ज़िम्मेदारी संभालने वाले टेलिकॉम इंजीनियरों के लिये सही समय पर जानकारी ढूंढ़ पाना रोज़ाना की परेशानी है। MIKA, Nokia AVA से जानकारी लेकर उन्हें टेलिकॉम ऑपरेटरों को उपलब्ध कराता है, जिससे बेकार की खोज में व्यर्थ हो रहा उनका बहुत सा समय भी बचे। MIKA को टेलिकॉम ऑपरेटरों की ज़रूरत पूरी करने के लिये बनाया गया है, जिससे कि वे दुनिया भर की जानकारी के आधार पर सुझाव प्राप्त कर सकें।

बहरहाल आप ये उम्मीद मत करियगा कि Nokia भी अपने कृत्रिम बुद्धी असिस्टंट वाले फ़ोन लांच करने में लग जायेगी। जहां ये कृत्रिम बुद्धी असिस्टंट Nokia ने बनाया है, दरसल फ़ोन, HMD से आया है, जो कि एक स्थानीय कंपनी है जिसने Nokia को अपना ब्रांड नाम लाइसेंस किया है।

MWC में लांच होने वाले Nokia फ़ोन में सबसे ताक़तवर कृत्रिम बुद्धी तकनीकों में से एक होनी चाहिये – शायद Google Assistant – जो कि MIKA से भी तेज़ी हो। परंतु ये संभव है कि कंपनी भविष्य में MIKA को एक पूर्ण कृत्रिम बुद्धी असिस्टंट के रूप में विकसित करे।

परंतु जो भी हो, Nokia को वापस खोल में देख कर बहुत ही प्रसन्नता हो रही है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन