इंटरनेट खबर

Cisco के इंजीनियरिंग के अध्यक्ष, Amit Phadnis ने दशकों बाद छोड़ दी कम्पनी

Cisco में दशकों से काम कर रहे Amit Phadnis, ने कम्पनी को छोड़ दिया| Cisco में Amit Phadnis, इंजीनियरिंग के अध्यक्ष का पद संभल रहे थे और उन्होंने कम्पनी को उच्चतम 11 बिलियन डॉलर का फायदा करवाया है|

कम्पनी को छोड़ने के इस फैसले का कारण अभी साफ़ नहीं हैं, सोर्स के मुताबिक Phadnis के कम्पनी छोड़ने का उनका कुछ व्यक्तिगत कारण है| यह अभी साफ़ नहीं हो रहा है की उन्होंने अपनी जगह छोड़ी है या नहीं|

इस बात की पुष्टि करते हुए Cisco ने कहा की,

“ कम्पनी में लोगों स्थानानतरण बहुत ही आम और प्राकृतिक सि बात है| लेकिन किसी अच्छे नेतृत्व को कम्पनी से अलग होते देखना कपंनी के लिए बहुत कठिन है| वहीँ यह कदम दुसरे और नए लोगों को अपना हुनर दिखाने और कम्पनी को भी लगातार अपनी वृद्धि को कायम रखने का मौका होता है|”

1999 में भारत में शुरू हुई Cisco कम्पनी में Amit पहले मनेजर थे| 2004 तक वह कम्पनी में इंजिनीअरिंग के डायरेक्टर रहे| 2007 से उन्होंने कम्पनी की और उच्चतम पोस्ट पाते चले गए|

Cisco कम्पनी में दूसरी बार आके उन्होंने software group (CSG) के हेड का पद संभाला और अपने नेतृत्व में 2500 से ज्यादा इंजिनीयर को प्रोडक्ट के विकास और GTM (go-to-market) में बाज़ार की रणनीति को देखते हुए कम्पनी के विकास में काम किया|

Cisco का भारत, दूसरा सबसे बड़ा बाज़ार है, यहाँ यह कम्पनी भारत सरकार की नीति, डिजिटल इंडिया, स्किल इंडिया और स्टार्टअप इंडिया को देखती है| भारत में इसने सबसे बड़े व्यापर को भी स्थापित किया है जिसमें वह नए स्टार्टअप को 280 मिलियन डॉलर के निवेश दिलाया है|

उन्होंने कम्पनी के नए स्टार्टअप LaunchPad का भी नेतृत्व किया है| उन्होंने पहली बार शुरू होने वाले आठ कामों का नेतृत्व कर उसे विकास तक पहुँचाया है| LaunchPad का उदेश्य भारत में business-to-business (B2B) को intelligence, machine learning, security, IoT और analytics जैसी तकनीकियों से विकास करना है|

 

टेक्नो लवर, घूमना, खाना, किताबें पढ़ना और नये गैजेट्स का है शौख़| नयी चीजों को जानना और नए लोगों से मिलना है पहली पसंद|

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन