इंटरनेट खबर

US के लेबर डिपार्टमेंट ने Oracle पर वेतन में भेदभाव को लेकर किया मुकद्दमा

US के लेबर डिपार्टमेंट ने IT कंपनी Oracle पर ये कहते हुए मुकदमा किया है कि वे नियुक्तियों को लेकर भेदभाव करते हैं। उनका रहना है कि कंपनी किसी पद पर विराजमान गोरे, ‘मर्ज को जितना वेतन देक़ती है, उतना उसी पद की किसी महिला को नहीं देती, जो कि दरसल महिलाओं, अफ़्रीकी-अमेरिकी और एशियाई कर्मचारियों के प्रति भेदभाव है।

इस मुकदमों में ये भी कहा गया कि तकनीकी पदों के लिये नियुक्तियों में कंपनी एशियाई लोगों को अधिक तवज्जो देती है, जो कि उसी पद के लिये आ रहे ग़ैर-एशियाई लोगों के प्रति भेदभाव है। क्योंकि ये कंपनी एक फ़ेडरल कॉन्ट्रैक्टर है और US डिपार्टमेंट को सेवाएं, सॉफ़्वेयर व हार्डवेयर उपलब्ध कराती है, तो US लेबर डिपार्टमेंट ने ऐसा करना अपना फ़र्ज़ समझा। आखिरकार ये फ़ेडरल कॉन्ट्रैक्टकों का फ़र्ज़ है, कि वे अपने कार्यालय में उचित नियम रखें।

इसके उत्तर में कंपनी ने इन सभी आरोपों को नकार दिया है। उनके एक वक्ता ने TechCrunch को कहा:

ये शिकायत पूरी तरह राजनैतिक और बेबुनियाद है। Oracle सभी को सम्मिलित करने में विश्वास करती है और सभी नियुक्तियों में समान अवसर और अच्छे लोगों के होने का ध्यान रखती है। हमारे सभी नियुक्ती व वेेतन संबंधित निर्णय कौशल व अनुभव पर आधारित होते हैं।

लेबर डिपार्टमेंट के आरोपों को राजनैतिक बताना बहुत ही कठोर है। लगता है कि Oracle को बहुत ही बुरा लगा है। बहरहाल, इस मुद्दे की जांच होगी और फिर ही पता लगेगा कि सच्चाई क्या है। परंतु अगर ये आरोप सच पाये गये तो कंपनी के लिये अच्छा नहीं होगा।

इससे पहले कंपनी को बहुत से सरकारी कॉन्ट्रैक्ट मिले हैं और अगर ये आरोप सच पाये जाते हैं तो कंपनी पर इसका बहुत ही दुष्प्रभाव पड़ता है। यहां तक की ये भी संभव है कि इनके पिछले सभी कॉन्ट्रैक्ट रद्द कर के इनको आगे कॉन्ट्रैक्ट प्राप्त करने से बैन कर दिया जाये।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन