एप्पल खबर

उपभोक्ता रिपोर्टें के तहत अंततः की गई Apple के MacBook Pro की सिफारिश

आख़िरकार दुनिया में सब कुछ सही हो गया है और अंततः Consumer Reports Apple के MacBook Pro की सलाह दे रही है। ऐसा लग रहा है कि पबलिकेशन ने आख़िरकार ख़राब बैटरी वाली दिक़्क़त दूर कर ली है।

Apple के फ़ोनों को एक ज़ोरदार झटका तब लगा, जब नामी पब्लिकेशन Comsumer Reports ने कंपनी के बहतरीन प्रोडक्ट MacBook Pro की सलाह देने से इनकार कर दिया। ये स्वयं ही बहुत बड़ी बात थी, क्योंकि Apple के प्रोडक्टों को हमेशा से ही संपादन ने सराहा था, और Apple ने तुरंत Consumer Reports की परेशानी का कारण जानना चाहा।

दरअसल दिक़्क़त ये थी कि MacBook Pro ने Consumer Reports द्वारा कराये गये परीक्षणों में बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं किया, मुख्यतः बैटरी के परीक्षक्णों में, जहाँ ये 3.75 घंटों के बहुत ही ख़राब न्यूनतम से 19.5 घंटों के अधिकतम को बीच रहा। जहाँ अधिक बैटरी लाइफ़ का तो परीक्षण ख़ुद कूपरटीनो कंपनी ने किया था, वे इस 4 घंटों से भी कम चलने की जानकारी पर तो Apple भी मुकर ही गयी।

उसके बाद, दोनों ही अपने-अपने तरीके से ये पता लगाने में जुट गये कि आखिरी दिक्कत आ कहां से रही है। बहुत सी माथापच्ची करने के बाद, उन्होंने पाया कि उसमें एक बहुत ही “अलग प्रकार का बग” था, जो कि केवल तब दिखता जब Safari के लिये ब्राउज़र कैश बंद कर दी जाती थी, जो कि जांच के लिये, Consumer Reportsकर ही रहे थे।

कंपनी ने तब से इस दिक्कत को दूर करने के लिये अपडेट जारी कर दिया है। Consumer Reports ने दोबारा से वही परीक्षण करे और रिज़ल्ट बहतर पाये। उसके बाद, अंततः, उन्होंने MacBook Pro को अपनी सहमती दे दी।

Consumer Reports के मुताबिक,

अपडेट किये सॉफ़्वेयर के साथ, हमारे लैब के तीनों Macbook Pro बहतरीन कार्य कर रहे हैं, जिनमें से एक तो चार्ज होने के बाद 18.75 घंटों तक भी चल जाता है। हमने नये सॉफ़्वेयर का प्रयोग कर हर लैपटॉप को उसी प्रक्रिया से गुज़ारा, जिसे हम साल भर अनेकों लैपटॉपों पर उपयोग करते हैं।

तो हां, अगर आपको नया MacBook Pro लेना है, तो Consumer Reports की तरफ़ से भी आपके आशिर्वाद मिल रहा है।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन