ई-कॉमर्स खबर डिजिटल इंडिया

Snapdeal की पैरेंट कंपनी, ‘Jasper Infotech’ ने FreeCharge में किया 390 करोड़ का निवेश

देश में इस समय digital payment की वृद्धि और विकास के लिए तेज़ी से प्रयास किया जा रहा है| ET की एक रिपोर्ट के मुताबिक इसी को ध्यान में रखते हुए Wallet payment सुविधा की अगुवाई करने वाली करने वाली कम्पनी FreeCharge में 390 करोड़ लगभग 57 मिलियन डॉलर का निवेश पाया है|

यह निवेश Snapdeal की पैरेंट कम्पनी Jasper Infotech में नयी पूंजी को बनाने और ग्राहकों को सुविधा देने के लिए लगाया है| इस पूंजी की जानकारी लोगों के सामने रख दी गयी है जिसको दिसम्बर में ही Registrar of Compnies में जमा करा दिया गया था| लेकिन अभी तक इस बात की कोई जानकारी प्राप्त नहीं हुई है की विदेशी कम्पनियों ने भी इसमें पैसा लगाया है|

जाँच के बाद पता चला है की जापान की SoftBank कम्पनी ने भारीमात्रा में FreeCharge में अपने निवेश किये हैं इसके बाद भी यह 150 से 200 मिलियन डॉलर को digital wallet की इस सुविधा में निवेश करेगा| अफवाह तो यह भी है की global payment करने वाली PayPal भी इस अपने लिए भी इस निर्णय को लेने जा रही है, दोनों ही कम्पनियों का उदेश्य पूंजी को बदलने में अपनी 25 प्रतिशत के पूंजी को सुरक्षित रखना है|

एक बार इस निवेश के चरण के ख़त्म होने के बाद गुडगांव आधारित यह कम्पनी देश में अच्छे-खासे लेवल पर चली जाएगी| इस चीज़ की भी आशा की जा रही है की FreeCharge कम्पनी 700 मिलियन डॉलर से 1 बिलियन डॉलर के बीच में आ कर रुकेगी|

जंहा SoftBank के साथ पुराने सभी निवेशक इस चरण में हिस्सा ले रहे हैं वंही Jasper Infotech ने आधिकारिक तौर पर यह बोला है की FreeCharge की PayPal और बाकि निवेशकों से बात की यह अफवाह बिना किसी आधार के है|

आगे यह भी कहा गया है की FreeCharge के शेयर्स में इस बार अधिक मुनाफा हुआ है जो 6 करोड़ से बढकर 1006 करोड़ हो गया है| यह बड़ी हुई पूंजी जिसे दिसम्बर के पहले सप्ताह में ही घोषित कर दिया गया था, कपनी के ओन ग्राउंड फंडिंग चरण में और ज्यादा निवेशकों को आकर्षित करने में सफल होगी|

सरकार के ऑनलाइन पेमेंट के पहल के बाद FreeCharge का यह मंच ऑनलाइन लेनदेन का भी साक्षी बना लेकिन ज़्यादातर उपभोक्ताओं ने दैनिक रूप से ऑनलाइन पेमेंट के लिए विश्वनीय Paytm का इस्तेमाल किया| Paytm ने इसमें 1000 प्रतिशत से बढौतरी की वंही FreeCharge ने अपनी wallet on delivry सुविधा के बाद इस्तेमाल में आना शुरू हुआ| Boston Consulting Group के अध्यन के मुताबिक भारत 2020 तक 500 बिलियन डॉलर तक का ऑनलाइन लेनदेन करने लगेगा|

टेक्नो लवर, घूमना, खाना, किताबें पढ़ना और नये गैजेट्स का है शौख़| नयी चीजों को जानना और नए लोगों से मिलना है पहली पसंद|

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन