इंटरनेट खबर

WikiLeaks बनेगा पंजीकृत ट्विटर उपभोक्ताओं का एक डेटाबेस

WikiLeaks, अब Twitter के पंजीकृत उपभोक्ताओं की निजी जानकारी का एक उपभोक्ता डेटाबेस बनाने के विचार में है।

इस ट्वीट में WikiLeaks ने Vocative के केविन कॉलर ने कहा कि वे “प्रॉक्सिमिटी ग्राफ़ों के आधार पर इंफ़्लुएंस नेट्वर्कों को समझने के लिये एक मेट्रिक का विकास” कर सकते हैं, ट्विटर उपभोक्ताओं को डॉक्स करने की जगह।

अगर ये आपको समझ न आया हो तो आपका देश नहीं है, ये केवल उनका शब्दों का खेल है। ये वेबसाइट सरकारों का पर्दा फ़ाश करने के बाद प्रचलित हुई थी और अब ये हमें ये ना समझ में आने वाले बयान दे रहे हैं। हम एक बार को ये भी मान सकते थे कि WikiLeaks Task Force का कोई ग़लत इरादा नहीं था, परंतु उनकी पुरानी हरकतों को देखते हुए हम इस बयान पर विश्वास नहीं कर सकते हैं।

अभी ये स्पष्ट नहीं है कि ये डेटाबेस सभी के लिये होगा या नहीं, और इस प्रश्न का WikiLeaks ने कोई उत्तर नहीं दिया है। क्योंकि इस कंपनी का उद्देश्य ही सभी गुप्त जानकारी को सब को उपलब्ध कराना है, ये सोच पाना मुश्किल हो रहा है कि ये डेटाबेस सभी के लिये उपलब्ध नहीं होगा।

परंतु किसी की भी निजी जानकारी Twitter की पॉलिसी के विरुद्ध है, और WikiLeaks यही करने के विचार में है।

Twitter का निजित्व नियम कहता है कि:

उपभोक्ताओं की निजी जानकारी के ये उक्त उधारण हैं:

क्रेडिट कार्ड की जानकारी
सोशल सिक्योरिटी या अन्य राष्ट्रीय पहचान संख्या
पता या ऐसी ही कोई जानकारी जो निजी समझी जाती हो
निजी फ़ोन नंबर
निजी ई-मेल
निजी तस्वीरें व विडियो
ऐसा तस्वीरें, जो कि किसी भी व्यक्ति की सहमती के बिना ली गयी हो

ये याद रखिये कि भले ही आप कुछ चीज़ों को निजी समझें, परंतु ये ज़रूरी नहीं कि वे चीज़ें भी इन नियमों के अनुसार निजी में ही आयें। हम इसमें निजी सेटिंगें, स्थानीय निजिता के नियम इत्यादी की भी भागिदारी देखते हैं। तो अगर Twitter पर आने से पहले कोई तस्वीर किसी और मंच पर उपलब्ध है, तो इसे निजिता का उल्लंघन नहीं माना जायेगा।

खैर, WikiLeaks Task Force का अकाउंट वेरिफ़ाई है, परंतु उसमें किसी भी व्यक्ति या संबंध की जानकारी नहीं दी गयी है। शायद ये एक बहतर CRM बनाने के विचार में हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन