ई-कॉमर्स एंटरप्राइज टेक खबर स्टार्टअप्स

FreeCharge में हिस्सेदारी सुनिश्चित कर, PayPal करेगा भारत में प्रवेश

Snapdeal के स्वामित्व वाली डिजिटल भुगतान कंपनी, FreeCharge इन दिनों शायद के बड़े कदम की ओर अग्रसर नज़र आ रही है | रिपोर्टों के अनुसार, यह विश्व स्तर पर डिजिटल भुगतान के क्षेत्र में नामी कंपनी, PayPal को अपनी अल्पमत हिस्सेदारी बेचने संबंधी प्रयासों के अंतिम चरण में है |

LiveMint की रिपोर्ट के अनुसार, इस सौदे के तहत, कंपनी $200 मिलियन में लगभग अपनी 25 प्रतिशत हिस्सेदारी PayPal को बेच सकती है, जिससे की परिपक्व भारतीय डिजिटल भुगतान के क्षेत्र में एक और नामी कंपनी की हिस्सेदारी सुनिश्चित हो सकेगी |

इस मामले की जानकारी रखने वाले स्रोतों के अनुसार, इस सौदे से जुडी बुनियादी चीज़ों पर Jasper Infotech, के बोर्ड के सदस्यों से चर्चा की जाएगी हैं, जो की Snapdeal पर मालिकाना हक रखने वाली कंपनी है, और साथ ही यह Freecharge का भी कार्यभार संभालती है |

यह चर्चा जनवरी के पहले सप्ताह में हो सकती है। स्रोतों द्वारा आगे कहा गया,

“ PayPal द्वारा प्रारंभिक प्रस्ताव FreeCharge में 51% हिस्सेदारी संबंधी नियंत्रण का था, लेकिन Snapdeal में सबसे बड़ी शेयरधारक कंपनी, SoftBank अपनी बहुमत हिस्सेदारी बेचने के लिए उत्सुक नहीं, इसलिए उन्होंने 20-25% तक की ही हिस्सेदारी बेचने पर ज़ोर दिया है, हालाँकि अंतिम निर्णय अभी भी नहीं लिया गया है ”

रिपोर्टों के मुताबिक, PayPal ने जहाँ एक तरफ Goldman Sachs को सलाहकार के तौर पर नियुक्त किया है, वहीं Deutsche Bank भी Jasper Infotech के तरफ़ से सलाहकार की भूमिका निभाते हुए नज़र आ रहा है |

सूत्रों के अनुसार Jasper Infotech के संस्थापक Kunal Bahl और Snapdeal में M&A  विभाग के प्रमुख, Abhishek Kumar इस सौदे का नेतृत्व कर रहें हैं |

हालाँकि हर नज़रिए से यह PayPal जैसे वैश्विक डिजिटल भुगतान ब्रांड के लिए भारत में प्रवेश का यह उपयुक्त समय है | विमुद्रीकरण (Demonetisation) ने  कैशलेस भुगतान सेवाओं, विशेष रूप से Paytm के लिए बड़े पैमाने पर वृद्धि के दरवाजे खोलें हैं, और  जिसके परिणामस्वरूप आज भारत में डिजिटल भुगतान का प्रचलन तेज़ी से फैलता प्रतीत हो रहा है | इसी के साथ PayPal का भारतीय बजार में आगमन भी काफ़ी दिलचस्प होगा |

हाल ही में ही PayPal ने Paytm के खिलाफ ट्रेडमार्क उल्लंघन का मुकदमा भी दायर किया और उनका दावा की Paytm ने logo और उसके रंग की नक़ल की है |

हालाँकि ऐसे कई कयास भी लगाये जा रहें हैं कि FreeCharge को और भी अधिक निवेशकों द्वारा प्रस्ताव हासिल हुए थे, लेकिन Snapdeal ने PayPal को ही उपयुक्त माना है |

खैर ! अब देखना यह है की वैश्विक स्तर की यह बड़ी कंपनी भारतीय बाज़ार में अपने प्रवेश को किस हद तक सफ़ल बना पाती है |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन