खबर गेमिंग

Crytek ने अधिकारिक रूप से बंद किए, अपने लांच स्टूडियो

एक लंबे व कठिन वर्ष के बाद, Crytek ने घोषणा करी है कि वे हंग्री, बुल्गारिया, दक्षिणी कोरिया, चीन और तुर्की में अपने गेम स्टूडियो बंद कर रहे हैं। Crytek ने कहा कि वे “अपनी कोर क्षमताओं को बहतरीन गेम विकसित करने और गेम विकसित करने की तकनीक में लगायेंगे”।

ये जानकारी आयी है कंपनी में महीनों तक लटकी कर्मचारियों की आय और गायब पेचेकों के बाद, जो कि अब केवल अपने फ़्रैंकफ़र्ट, जर्मनी और कीव, यूक्रेन के स्टूडियो को रखेंगे। अधिकारिक प्रेस रिलीज़ में कंपनी ने कहा कि वे स्टूडियो के बंद होने पर अपनी नौकरियां खो रहे सभी कर्मचारियों के सुरक्षित भविष्य और आसान ट्रांज़िशन के लिये प्रयास शुरू कर चुके हैं।

Crytek को उनके गेमों Crysis और Ryse के लिये जाना जाता है (और हाल ही में आये VR गेम Robinson The Journey जैसे गेमों के लिये भी)। और जैसा कि हम बता चुके हैं, वे अपने कर्मचारियों को मई से उनकी कमाई देर से भेज रहे हैं, और ये सिलसिला पूरे 2016 में जारी था। वहां के कर्मचारियों के मुताबिक, पिछले सप्ताह, उन्होंने अंततः कर्मचारियों को अक्टूबर की पेचेक दी। परंतु Crytek इतनी दरी से आने वाली पेचेकों और बुरी वार्ता के कारण दर्जनों में कंपनी छोड़ रहे हैं, बिलकुल जैसे 2014 में हुआ था।

Crytek के मैनेजिंग निदेशक अवनी येर्ली ने कहा:

ऐसे बदलावों से गुज़रना बहुत कठिन होता है, और हम अपने सभी कर्मचारियों को धन्यवाद देना चाहेंगे – पुराने और अभी के, सभी – जिन्होंने हमेशा Crytek के प्रति अपना कमिटमेंट व कड़ा महनत दिखाया। ये कदम हम ये सुनिश्चित करने के लिये ले रहे हैं, जिससे कि भविष्य में भी Crytek एक स्वस्थ्य व स्थायी व्यापार रहे, जिससे कि हम इंडस्ट्री के उच्चतम टैलेंट को आकर्षित कर के आगे बढ़ा सकें। इसके कारण अंदरूनी रूप से सभी को बता दिये गये हैं। हमारा केंद्र अब पूरी तरह कोर क्षमताओं को संभालना है, जिन्होंने हमेशा Crytek को परिभाषित किया है – बहतरीन डेवलपर, उच्चतम तकनीक और विशेष गेम विकास। और हमारा मानना है कि इस प्रक्रिया से गुज़रने से हम और भी मज़बूत और आकर्षक स्टूडियो बन सकते हैं, जो कि भविष्य की सफलता के लिये तैयार हो।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन