खबर

Facebook स्पॉन्सर कर सकती है, असल विडियो कंटेंट

विडियो कंटेंट इस बीच बहुत प्रचलित हो रहा है। इसी के चलते, Facebook भी अपने मंच पर प्रसारित करने के लिये असली केंटेंट विकसित करने हेतु निवेश करने का विचार कर रही है।

Facebook धरती के लोगों की एकमात्र सबसे बड़ी जमात है। मंच पर करीब एक बिलियन से भी अधिक लोग हैं, जो कि रोज़ाना मिलियनों विडियो देखते हैं। पबलिशरों को ये बात समझ में आ गयी है और वे विडियो कि ओर इस झुकाव को ध्यान में रखते हुए मंच के लिये और भी नये विडियो कंटेंट ला रहे हैं। Facebook ने इन लोगों को बहुत सुविधायें दी हैं, जैसे कि विडियो पहुंच व अन्य।

उन्होंने वर्ष की शुरवात में एक नया विडियो टैब भी अपनी साइट पर जोड़ा था, जो कि लोगों को ऐसा कंटेंट देखने में सहायता करता है। कंपनी अब अपना खुद का कुछ कंटेंट बना कर रेवेन्यू का एक और स्त्रोत स्थापित करने के विचार में है।

मुद्दे पर बात करते हुए, Facebook के वैश्विक क्रियेटिव रणनीति के प्रमुख रिकी वैन वीन, ने कहा:

हम कुछ असली, व लाइसेंस वाले स्क्रिप्टेड, बिना स्क्रिप्ट के, स्पोर्ट्स केंटेंट आदि के लिये सीड विडियो कंटेंट में निवेश करने का विचार कर रहे हैं, जो कि केवल Facebook के ज़रिये हो सकने वाले मोबाइल व सोशल वार्तालाप का लाभ उठाये। हमारा उद्देश्य है कि हम दुनिया भर में अपने विडियो साझेदारों के साथ कार्य करते हुए लोगों को ये दिखा सकें कि वे इस मंच पर क्या कुछ कर सकते हैं और कितना सीख सकते हैं।

दूसरे सुत्रों से प्राप्त हुई रिपोर्टों के अनुसार भी, कंपनी TV स्टूडियो व अन्य विडियो कंटेंट के प्रड्यूसरों से विडियो कंटेंट के लिये बात कर रही है। खैर ये बहुत ही दिलचस्प है। Facebook अपने मंच पर उपलब्ध कंटेंट के लिये हमेशा से दूसरों पर निर्भर रही है। अगर ये खुद के कंटेंट को लाइसेंस करने लगे तो ये दरसल कहलायेंगे क्या? एक तकनीक कंपनी? एक मीडिया कंपनी? एक तकनीक मीडिया कंपनी?

इससे, कंपनी को विडियो के ज़रिये रेवेन्यू बनाने का एक और स्त्रोत मिल जायेगा। Facebook अपने मंच पर विडियो से पहले ऐड नहीं चलने देती – YouTube की तरह – इसलिये, कई पबलिशर इस मंच पर अपना कंटेंट डालने से कतराते हैं। परंतु अपने शो लाकर, Facebook ना केवल रेवेन्यू का नया स्त्रोत स्थापित करेगी, परंतु ये भी सुनिश्चित करेगी कि पबलिशरों के अपने विडियो पर ऐड लगाने के अलावा भी मंच पर बहुत सारा कंटेंट उपलब्ध रहे।

और हां, कंपनी करोड़ों दर्शकों तक पहुंच सकेगी, वो भी बिना बहुत अधिक प्रयास किये।

ऐसा कदम, इनको YouTube व Netflix के कड़े प्रतिद्वंद में खड़ा कर देगा – जो कि अपने-अपने कंटेंट लेकर आ रही हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन