खबर स्टार्टअप्स

वित्त तकनीक स्टार्टप Serv’d को Digital Financial Service Lab से मिले $100k

अनियंत्रित क्षेत्र में एकसारता लाने के लिये कार्य कर रहे पुणे के वित्त तकनीक स्टार्टप Serv’d को Digital Financial Service (DFS) Labs से $1 लाख की ग्रांट मिली है। DFS लैब दरसल एक वित्त तकनीक ऐक्सेलेरेटर कार्यक्रम है, जिसको बिल व मेलिंडा गेट्स फ़ाउंडेशन से निवेश मिलता है।

DFS Labs ऐसे स्टार्टपों की सहायता करते हैं, जिनमें सहारा के निकट के अफ़्रीका, दक्षिण व दक्षिण पूर्वी एशिया जैसे क्षेत्रों के अनेकों घरों को प्रभावित करने की क्षमता हो। पुणे के इस स्टार्टप को दुनिया भर के 700 से भी अधिक आवेदकों में से इस ग्रांट के लिये चुना गया है।

कंपनी इस निवेश का प्रयोग नयी तकनीक विकसित करने और पुरानी तकनीक का ऐक्टिवेशन ड्राइव करने के लिये करेगी।

स्टार्टप को ₹3.5 करोड़ के शुरवाती निवेश के साथ, जतिन अग्रवाल, तरुण शर्मा और सुहास केलकर ने स्थापित किया था। कंपनी के सी.ई.ओ. जतिन अग्रवाल के मुताबिक, कंपनी दोस्तो व परिवार जनों से $3 मिलियन और का निवेश प्राप्त करने की तैयारी कर रही है।

घर निदेशन सिस्टम उपलब्ध कराने वाली Serv’d, दरसल एक पियर-से-पियर मंच है। ये उपभोक्ताओं को अनियंत्रित कार्य क्षेत्र में कार्य करने वालों, जैसे कि घर पर काम करने वालों, चालकों, ठेकेदारों आदि से कॉन्ट्रैक्ट व भुगतान के नियम निर्धारित करने मे सहायता करती है।

कंपनी ने अपना लांच 2017 की शुरवात में निर्धारित किया था, परंतु उन्होंने विमुद्रिकरण के कारण इसे उम्मीद से जल्दी लांच करने का निर्णय ले लिया है। कंपनी के पास पहले से ही 45 लोगों की एक टीम है, जो कि अनियंत्रित क्षेत्र में लोगों तक पहुंच कर उनको ये समझने की कोशिश कर रहे हैं कि उनका मंच कैसे कार्य करता है।

जतिन का कहना है कि वे अभी केवल डेटा एकत्रित करने पर केंद्रित हैं और कुछ समय बाद कर्मचारियों को स्वास्थ्य बीमा व लोन जैसी वित्त सुविधायें भी उपलब्ध करायेंगे। ये संभव करने के लिये, कंपनी को ज़रूरी सेवा उपलब्ध कराने वालों से साझा करना पड़ेगा।

इसके बाद, कंपनी कर्मचारियों को बचत के उपाय भी उपलब्ध कराना चाहती है। इस प्रायस के पीछे कारण था बड़ी वॉल्युम में छोटे मार्जिन के ट्रांज़ैक्शन करना, जिससे कि सबसे निचले स्तर के लोगों को भी वित्तीय समानता प्राप्त हो।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन