खबर गूगल स्मार्टफोन्स

Google Tango तकनीक से लैस हो सकतें हैं, Moto Z सीरीज़ के स्मार्टफोन

पिछले महीनें ही, Lenovo Phab2 Pro, Google की Tango तकनीक के साथ आने वाला पहला व्यावसायिक स्मार्टफोन बन गया था | लेकिन अब ऐसा लगता है कि कंपनी सिर्फ़ एक डिवाइस में यह सुविधा देकर संतुष्ट नहीं है, इसलिए अब यह और भी कई डिवाइस में यह तकनीक समायोजित करने पर विचार कर रही है, और मुख्य रूप से अपने Motorola ब्रांड में |

शिकागो में एक संवाददाता सम्मेलन में Motorola Mobility के प्रेसिडेंट Aymar de Lencquesaing से कहा कि “Moto Z स्मार्टफोन की सीरीज में अब tango मॉड्यूल” का आगमन हो सकता है | हालांकि, उन्होंने इस बात की पुष्टि नहीं की है कि क्या इसको लेकर वर्तमान में कोई कार्य हो रहा है या नहीं |

उन्होंने आगे यह भी कहा,

“ फोन के संवर्धित वास्तविकता तकनीक से लैस होने की संभावना बनी हुई है, बेशक हम इसका पालन कर, बाज़ार के अंदर इस क्षेत्र में नेतृत्व कर सकेंगे ”

सबसे सुखद बात यह है कि Motorola अपनी आगामी डिवाइसों में लगातार नई तकनीकों का प्रयोग और परीक्षण कर, खुद को अगली पीढ़ी के लिए बेहतर साबित करने संबंधी कोशिशें कर रहा है | इसका अंदाज़ा Moto Z के लॉन्च से लगाया जा सकता है, जो की अपनी सुविधाओं और तकनीक के चलते, खुद की तरह का एक अनोखा फ़ोन है | 

Motorola ने अपने Moto Z स्मार्टफोन सीरीज को ‘मॉड्यूलर Add-ons’ से लैस किया है, जिसको Mods के नाम से जाना जाता है | हालांकि कंपनी ने अभी भी डेवलपर्स के लिए अपनी Mods तकनीक को खोल रखा है, ताकि और भी नई तथा शानदार कार्यक्षमताओं का समावेश किया जा सकें | इसके लिए कंपनी ने hackathon डिजाइन का भी लॉन्च किया |

Tango परियोजना Google द्वारा बनाई गई एक अवधारणा है, जिसके तहत हार्डवेयर उन्नत इन्फ्रारेड सेंसर का उपयोग करके, 3D में अपनी वास्तविक स्थिति का अनुमान लगा सकता है | यह एक 3D पोजीशनिंग मंच है जो अपने आसपास के परिवेश का एक नक्शा सा बना देता है |

कई कैमरों का उपयोग कर यह गति और गहराई का मापन भी कर सकता है | इसके साथ ही उन्नत सेंसर के इस्तेमाल से यह फ़ोन को बताता है कि वह कहाँ है और उसके सामने क्या है |

यह परियोजना पर Google, 3 साल पहले से ही कार्यरत है | इसका उद्देश्य यह था कि गहराई संवेदन कैमरों का उपयोग कर, डिवाइस के आसपास के परिवेश का सटीक 3D मॉडल बनाया जा सके | ताकि इसके जरिये फ़ोन और टैबलेट में संवर्धित वास्तविकता तकनीक का प्रचलन शुरू किया जा सके |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन