खबर माइक्रोसॉफ्ट स्टार्टअप्स

GoDaddy के भारतीय प्रबंध निदेशक ‘राजीव सोढ़ी’ का इस्तीफा, Microsoft में पुनः करेंगे Cloud व्यापार का नेतृत्व

वर्तमान में इंटरनेट के युग में, कंपनियों को विस्तार और प्रतिस्पर्धा से अधिक, अपने शीर्ष स्तरीय कार्यकारी अधिकारियों को अपने में सम्मिलित रखने में, परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है |

आज GoDaddy भारत में प्रबंध निदेशक और उपाध्यक्ष, राजीव सोढ़ी ने अपना इस्तीफा सौंपने के बाद कंपनी को अलविदा कह दिया है | अपनी वर्तमान भूमिका को अलविदा कहने के बाद, अब राजीव दुबारा Microsoft में cloud and server व्यापार का नेतृत्व करते नज़र आयेंगे |

इससे पहले, Microsoft में क्लाउड और सॉफ्टवेर के क्षेत्र में बिक्री और विपणन की अध्यक्षता करने के बाद, जून 2012 में राजीव ने GoDaddy में अपना क़दम रखा था |

राजीव, GoDaddy के माध्यम से क्षेत्रीय भाषाओं में उत्पादों और सेवाओं को प्रदान कर, कंपनी के भारतीय कारोबार की स्थापना और स्केलिंग के लिए भी अहम साबित हुए हैं | इसके साथ ही इन्होंने स्थानीय भुगतान विकल्प पेश कर, व्यवसायों को लुभाने का भी कार्य किया है | उनके नेतृत्व में कंपनी ने क्लाउड सर्वर और क्लाउड सेवा जैसे अनुप्रयोगों का निर्माण, परीक्षण और बड़े पैमाने पर शुभारंभ भी किया |

पांच साल पहले देश में डोमेन रजिस्टर जैसी सेवाओं के बारे में शायद ही कोई जानता था, लेकिन राजीव के सही कदमों और दूरदर्शी सोच के चलते, आज काफ़ी परिवर्तन नज़र आता है |

GoDaddy में शामिल होने पहले राजीव, India SMB में क्लाउड और सॉफ्टवेर वितरण के निदेशक के तौर पर भी कार्यरत रह चुकें हैं |

Microsoft में राजीव की वापसी को, घर में पुनः प्रवेश के तौर पर देखा जा रहा है | हाल ही में Microsoft ने Azure, Sharepoint जैसी कुछ मजबूत क्लाउड प्रौद्योगिकियों का भी निर्माण किया है | Microsoft की भारतीय बाज़ार में और भी अच्छी पैंठ स्थापित करने में राजीव फिर से कारगर साबित हो सकतें हैं |

खैर ! अब बस देखना यह है कि घर(Microsoft) वापसी का यह दौर, राजीव के लिए कौन-कौन से नए आयाम संजोता है |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन