खबर स्टार्टअप्स

दिल्ली सरकार ने Uber के ‘सवारी-साझा’ कार्यक्रम को दी मंजूरी: रिपोर्ट

एकत्रीकरण नियमों पर भारत सरकार के प्रस्ताव पर व्यापक चर्चा समाप्त करने के बाद, अब अमेरिकी सवारी प्रदाता, Uber सरकार से एक और याचिका पर विचार करने की मांग कर रही है | इस बार कंपनी सद्भावना और सतत विकास के संदेश का प्रचार करती नज़र आ रही है |

कंपनी अब अपने व्यापक रूप से लोकप्रिय कार्यक्रम, ‘राइड-शेयरिंग’ को देश में शुरू करने पर विचार कर रही है | यह सुविधा हर व्यक्ति को इस मंच के जरिये, अपने वाहन को दूसरों से साझा करने संबंधी मसले में सक्षम बनती है |

हालांकि यह नियम वर्तमान में ‘मोटर वाहन अधिनियम’ द्वारा निषिद्ध है | लेकिन इस दिग्गज़ कंपनी का यह तर्क है कि इसकी सहायता से नई दिल्ली जैसी जगहों में प्रदूषण कम किया जा सकता है | हम सब हाल ही में, हर दिन काली धुंध के रूप में नज़र आने वाले, राजधानी में फैले प्रदूषण से वाकिफ़ ही हैं |

इस प्रकार Uber एक ही दिशा में यात्रा करने वाले उपयोगकर्ताओं को, वाहन साझा करने की सुविधा देकर, ईंधन की खपत और प्रदूषण दोनों की रोकथाम संबंधी पेशकश कर रहा है |

इस पर टिप्पणी करते हुए, Uber भारत की सार्वजनिक नीति प्रमुख, श्वेता राजपाल कोहली ने कहा,

“ इसको वास्तविकता का रूप देने के लिए, हम सरकार के साथ काम करने को लेकर तत्पर हैं, एक ही दिशा में यात्रा करने वालों को वाहन साझा करने की सुविधा देकर, हम डुप्लिकेट यात्रा की संख्या को कम करने का प्रयास करेंगे, इसलिए हम हर तरह से संभव मदद कर, सरकार की ‘कार पूलिंग’ नीति को बढ़ावा देना चाहते हैं, ताकि बढ़ते प्रदूषण में भी कमी लाई जा सके ”

Uber का सवारी साझा करने का कार्यक्रम, सामान्य कार पूलिंग विकल्प से अलग है | इसमें आप व्यवसायिक चालकों के साथ ही, अन्य यात्रियों के साथ सवारी साझा कर सकेंगे | लेकिन इस साझा करने के कार्यक्रम के तहत, कंपनी निजी कार मालिकों को भी, अपने मंच पर रजिस्टर करने पर विचार कर रही है | एक बार सत्यापन प्रक्रिया पूरी होने के बाद, आप अपनी यात्रा का स्थान और समय मंच पर साझा कर सकेंगे, ताकि उपयुक्त सवारी आप को संपर्क कर सके |

इस मसले में विकास से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, Uber ने पहले ही दिल्ली सरकार से प्रारंभिक वार्ता कर ली है और उनकी प्रतिक्रिया सकारात्मक रही है | ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन की रिपोर्ट के मुताबिक, यह सुविधा 5 प्रतिशत वाहन मालिकों के लिए एक व्यवहार्य विकल्प के तौर पर होगी, क्योंकि अधिकतर समय उनके वाहन उपयोग नहीं होतें हैं |

यदि राजधानी में यह सुविधा लागू हो गई, तो अवश्य ही ईंधन की खपत और प्रदूषण के स्तर में गिरावट देखने को मिलेगी | और यक़ीनन यह एक स्वस्थ वातावरण की दिशा में, अपने भविष्य की पीढ़ी के लिए भी एक अच्छी सौगात साबित होगा |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन