ई-कॉमर्स खबर स्टार्टअप्स

बाल दिवस के मौके पर ‘Unbox Uber: Colour A Smile’ अभियान के जरिये. जरूरतमंद बच्चों में भी बाँटें थोड़ी ख़ुशी

मशहूर टैक्सी सेवा प्रदाता, Uber ने ख़ास, बाल दिवस के मौके पर Snapdeal के साथ भागीदारी कर, अपने ‘Unbox Uber: Colour A Smile’ अभियान की शुरुआत की है |

इस साझेदारी के साथ, दोनों कंपनियों ने मूल रूप से वंचित बच्चों के लिए, ‘क्रेयॉन कलर पैक’ के दान की सुविधा के लिए योजना बनाई है | आज Uber यात्री के पास यह विकल्प होगा कि वह Snapdeal के एप्लिकेशन के माध्यम से Camlin crayons को ख़रीद, गैर सरकारी संगठनों के इन बच्चों के लिए दान कर, उनमें थोड़ी खुशियाँ बाँट सकें |

ख़ुशियों के रूप में दान दिए जा रहे, इन रंगों के पैक को Teach for India, Oxfam India, Bhumi, Care India, Give India सहित कई गैर सरकारी संगठनों के माध्यम से वंचित बच्चों तक पहुँचाया जाएगा |

इस पर टिप्पणी करते हुए, Snapdeal  में कारपोरेट मामलों और संचार के वरिष्ठ उपाध्यक्ष, Rajnish Wahi ने कहा,

“ Snapdeal Sunshine के माध्यम से हम सामाजिक कारणों का समर्थन और उनकी मदद करने के लिए, हमारे उपयोगकर्ताओं को विभिन्न विकल्प प्रदान करते हैं, हमें यकीन है कि Uber के साथ इस संयुक्त पहल को एक शानदार प्रतिक्रिया मिलेगी, तथा इस प्रकार के छोटे प्रयासों से हम उन सभी बच्चों और जरुरतमंदों के लिए ख़ुशी का एक कारण बन सकतें हैं ”

यह अभियान 14 नवंबर से 21 नवंबर तक चलेगा | आप सीधे Snapdeal की वेबसाइट के माध्यम से, इस बच्चों में ‘कलर पेंसिल’ और ‘क्रेयॉन’ जैसे उपहार बाँट सकतें हैं |

इससे पहले भी Uber ने Snapdeal के एप्लिकेशन में अपनी कुछ सेवाओं का एकीकरण करते हुए, Snapdeal को अपने स्मार्ट गतिशीलता समाधान का एक हिस्सा बना लिया है | वर्तमान में यह सेवा केवल एंड्रॉयड पर उपलब्ध है |

हालांकि जहाँ तक बात है इस पहल की, तो ये मत सोचिये कि इतने से उपहार से क्या होगा ? उन बच्चों के लिए इतना एहसास ही काफ़ी है कि उनकी परवाह करने वाले आज भी दुनिया में कम नहीं हैं |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन