खबर गूगल

अब आपके ‘स्थान’ और ‘मौसम’ के आधार पर ‘Google Play Music’ बताएगा, आख़िर क्या सुने ?

Google हमेशा से ही अपनी नई-नई रोचक सुविधाओं के लिए जाना गया है | इसी सिरे में एक और नए उदाहरण को जोड़ते हुए, Google ने अब अपने Google Play Music में कुछ ऐसे बदलवा कियें हैं कि अब यह आपको बताएगा कि कौन सा गाना कब सुनना उचित और मज़ेदार होगा |

इस नई सुविधा की घोषणा करते हुए Google ने कहा,

“ उचित संगीत को खोजने में मदद करने के प्रति हमारी प्रतिबद्धता के चलते अब हमनें Google Play Music को पूरी तरह से बदलने का प्रयास किया है, अब यह आपको बहुत ही होशियारी के साथ उचित संगीत स्ट्रीमिंग सेवा का लुफ़्त उठाने में सहायक होगा ”  

संगीत स्ट्रीमिंग सेवाओं में इस बदलवा में ‘सहायक’ शब्द का इस्तेमाल बिल्कुल सही है, क्योंकि अब यह सेवा आपको आपकी वर्तमान मनोदशा और स्थान के आधार पर सही संगीत का सुझाव प्रदान करती नज़र आएगी | मतलब आपके भीतरी और बाहरी, दोनों वातावरणों के हिसाब से, अब यह आपके लिए उचित संगीत का चुनाव करेगी |

Google Play Music के प्रमुख उत्पाद प्रबंधक, Elias Roman ने बताया,

“ आपकी कसरत के समय, वैसे ही माहौल का संगीत आपकी स्क्रीन के समक्ष होगा, साथ ही जब असमान गुलाबी होने लगता है, तो आप सूर्यास्त से संबंधी संगीत का लुफ़्त ले सकेंगे, या फिर आप सिर्फ़ पहले से ही चयनित संगीत का भी मजा ले सकतें हैं ”

कंपनी ने यह भी कहा है कि  Google Play Music अपने machine learning systems के चलते, उपयोगकर्ता की पसंद का अंदाज़ा लगा कर उसको स्टोर कर लेगा, और साथ ही आस पास के माहौल, मौसम और गतिविधियों के आधार पर, सही संगीत का चुनाव कर, आपके लिए चीज़ों को और अधिक आसान और रोमांचक बना देगा |

इसके साथ ही Google ने एक नई होम स्क्रीन भी प्रदान की है ताकि आपको व्यक्तिगत डीजे जैसा अनुभव और आनंद मिल सके |

इसके साथ ही Google की ऑफ़लाइन प्लेलिस्ट भी एक दिलचस्प सुविधा है, जिसके माध्यम से आप सिगनल न होने पर भी, पूर्व सुने गये गानों को, दुबारा सुन सकतें हैं | साथ ही इसमें स्ट्रीमिंग सेवा में भी अत्यधिक सुधार हुए हैं |

अब देखना यह है कि Google की अन्य शानदार सुविधाओं की तरह, यह नई सेवा लोगों के बीच कितनी लोकप्रिय और रोमांचक साबित हो पाती है ?

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन