खबर

NoBroker ने PayTM संस्थापक विजय शेखर शर्मा को निवेशक व सलाहकार के रूप में जोड़ा

अानंद चंद्रशेखरन को निवेशक व सलाहकार के रूप में खुद से जोड़ने के कुछ महीनों बाद ही, NoBroker ने एक और बड़े खिलाड़ी को खुद से जोड़ लिया है। इस बार, संभवतः देश के सबसे विज़नरी स्टार्टप संस्थापक विजय शेखर शर्मा इनके बोर्ड से जुड़ रहे हैं।

जहां विजय शेखर शर्मा द्वारा निवेशित राशि गुप्त रखी गयी है, ये पता चला है कि वे कंपनी में सलाहकार के रूप में भी जुड़ेंगे।

विजय शेखर शर्मा का कंपनी से जुड़ना बहुत सही समय पर आया है, जब कंपनी देश भर में अपनी उपस्थिती को विस्तृत करने का प्रयास कर रही है। ये इस समय मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई व पुणे में कार्य कर रहे हैं।

आनंद चंद्रशेखरन द्वारा निवेशित राशि को भी उजागर नहीं किया गया था, परंतु ये पता है कि वो $10,000 व $25,000 के मध्य थी, क्योंकि वे इसी टिकट साइज़ में निवेश करते हैं। Facebook से जुड़ने से पहले, आनंद Airtel व Snapdeal के साथ रह चुके हैं और उन्होंने इस वर्ष में करीब 10-12 निवेश किये हैं।

NoBroker को 2013 में IIT व IIM के पूर्व छात्रों अखिल गुप्ता, अमित अग्रवाल और सौरभ गर्ग ने स्थापित किया है। कंपनी उपभोक्ताओं को फ़ी लेकर रियल एस्टेट सेवा उपलब्ध कराती है, वो भी रियल एस्टेट जगत से सभी मध्यस्थों को पीछे छोड़ कर।

कंपनी का कहना है कि उन्होंने ऐसा ऐल्गॉरिदम विकसित किया है, जिससे हर साइन-अप पर उनको पता चल जाये कि वे संभावित किरायेदार हैं और ब्रोकर नहीं। दो पार्टियों को आपस में जोड़ने के अलावा, कंपनी ज़रूरी कानूनी कागज़ात भी उपलब्ध कराती है, जो कि हर डील के अनुसार बनाये जाते हैं।

वे उपभोक्ताओं को मूविंग व पैकिंग एजंटों से जोड़ने, किराये की बात करने में सहायता करने और रेंटल अग्रीमेंट जैसी चीज़ें बनाने जैसी सेवा भी उपलब्ध कराते हैं।

अभी तक कंपनी को एक्विटी फ़ाइनैंसिंग में $13 मिलियन तक प्राप्त हुए हैं। इनके निवेशकों में SAIF Partners, सिंगापुर के तेरिहाइड सातो के वेंचर कैपिटल Beenext, जापानी निवेशकों Digital Garage, Beenos व अन्य शामिल हैं।

कंपनी का दावा है कि उनके पास इस समय 15 लाख उपभोक्ता हैं और वे हर महीने 1 लाख उपभोक्ता जोड़ रहे हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन