ई-कॉमर्स खबर स्टार्टअप्स

Uber को बड़ा झटका, ‘कर्नाटक उच्च न्यायालय’ ने की याचिका खारिज

अमेरिकी टैक्सी सेवा प्रदाता, Uber और कर्नाटक सरकार के बीच हाल ही में पारित टैक्सी एकत्रीकरण नियमों पर एक लड़ाई सी छिड़ गई है | मूल्य वृद्धि निर्धारण के अपने फैसले का बचाव करने को लेकर Uber द्वारा डाली गई, राज्य के अधिकार को चुनौती देने वाली याचिका, कर्नाटक उच्च न्यायालय ने खारिज कर दी है | इससे Uber को एक बड़ा झटका जरुर लगा है |

इस निर्णय के तहत उच्च न्यायालय ने Uber और Ola दोनों को, कुंजी नियमों के पालन और अपने मंच पर मूल्य वृद्धि की सीमा तय करने की सलाह दी है | उच्च न्यायालय ने सरकार के साथ सहमति व्यक्त की है और जून के कुछ प्रावधानों पर आपत्ति भी व्यक्त की है | लेकिन, टैक्सी एकत्रीकरण नियमों में परिभाषित विभिन्न नियमों के बारे में, Uber द्वारा डाली गई याचिका को खारिच कर दिया है |

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कर्नाटक सरकार ने पहली बार राज्य संक्षिप्त में परिवहन प्रौद्योगिकी एग्रीगेटर नियम, 2016 लागू किया है |

इस नियम में ऑनलाइन सवारी सेवाओं के द्वारा मूल्य सीमा को तय करने, सभी गाड़ियों में पैनिक बटन लगाने और चालक को कम से कम 2 वर्षों तक की नौकरी देने संबंधी प्रावधान बनाये गयें हैं | इसी के चलते अब महाराष्ट्र, दिल्ली और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों ने भी इन नियमों को लागू किया है |

इस निर्णय के बाद Uber को नियमों का पालन करने और राज्य में संचालन करने संबंधी लाइसेंस प्राप्त करने के लिए, एक महीने का समय दिया गया है | इसके पहले Uber ने सरकार पर स्थानीय प्रतिद्वंद्वी Ola का साथ देने और उन्हें बिना ज्यादा परेशानी के लाइसेंस प्रदान करने का आरोप लगाया था |

इसी के साथ, उच्च न्यायालय ने आगे कहा कि राज्य सरकार ऑनलाइन टैक्सी सेवा प्रदाताओं के लिए नियम बनाने का अधिकार रखती है, लेकिन साथ ही राज्य को यह भी ध्यान रखना चाहिए कि वह टैक्सी क्षेत्र में स्टार्टअप्स को बढ़ावा दे |

हालांकि Ola और Uber मूल्य वृद्धि को लागू कर सकतें हैं, लेकिन 19.50 रूपये प्रति किमी की निर्धारित सीमा से अधिक नहीं जिसमें 1 रूपये प्रति किमी का प्रतीक्षा चार्ज भी शामिल है |

Ola ने हाल ही में अपनी तकनीक सेवाओं उन्नत बनाया है, लेकिन Uber ने अपने एप्लिकेशन अनुभव में बदलवा लाते हुए, एक बार फिर इस स्थानीय प्रतिद्वंद्वी को मात दी है | यह नया एप्लिकेशन, एक सरल बुनियादी एकत्रीकरण होने के बजाए, सामाजिक समुदाय (यानी मित्रों और परिवार) के लिए केंद्रित नज़र आता है |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन