खबर स्टार्टअप्स

IIM-तिरुचिरपल्ली अपनी E-Summit से प्रयास करेगी स्टार्टप ईकोसिस्टम से रहस्य हटाने का

IIM तिरुचिरपल्ली पहली बार 13 नवंबर को E-Summit का आयोजन करने जा रही है। इसका उद्देश्य स्टार्टप ईकोसिस्टम से रहस्य हटाना और देश में इनोवेशन और उद्यम को बढ़ावा देना है।

सम्मिट में कई कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। कीनोट वक्ता व मुख्य अतिथी श्री सुशांत नायक हैं। वे एक सीरियल उद्यमी हैं और उन्होंने भारत, UK व USA में चार स्टार्टपों को स्थापित किया है। वे कई संस्थाओं के बोर्डों से सलाहकार के रूप में भी जुड़े हैं।

विशिष्ट अतिथी के रूप में Kaizen Tutors के सह संस्थापक श्री शजन निनान हैं। वे वित्त व उद्यम के क्षेत्रों में सेमिनार व वर्कशॉप करवाते हैं। कार्यक्रम में पैनल डिस्कशन का मुद्दा है “जीतने वाले व्यापार मॉडिल डिज़ाइन करना”। आमंत्रित पैनलिस्ट स्टार्टप जगत में स्थापित नाम हैं।

सुश्रि अरुणा ए पी, एक सफल प्रबंधन सलाहकर हैं और व्यापार वेंचरों को इंक्यूबेट करने में भी सहायता करती हैं। वे इस समय XLr8AP की कार्यक्रम प्रबंधक भी हैं, जो कि आंध्र प्रदेश में इनोवेशन को तकनीक आधारित ऐक्सेलेरेटर के रूप में स्थापित करने का प्रयास है। दूसरे पैनलिस्ट आठ महीने पहले ही शुरू हुए स्टार्टप PickMyLaundry के सह संस्थापक व सी.ई.ओ. श्री गौरव अग्रवाल हैं। अगले, Affigenix.com के संस्थापक, मैनेजिंग निदेशक और मुख्य विज्ञान अधिकारी डॉ अरुमुगम मुरुगनंदनम हैं, जो कि भोजन, कृषी व जीवन विज्ञान इंडस्ट्रियों के बॉयोलॉजिक उपाय डिलिवर करते हैं। श्री शजन निनान चौथे पैनलिस्ट होंगे।

E-Summit में एक प्लान-बी प्रतिद्वंद भी होगा, जहां छात्र वेंचर कैपिटलिस्टों व इंक्यूबेटरों के सामने अपने व्यापार मॉडल का प्रदर्शन करेंगे, जिससे ये साबित हो सके कि इनोवेशन, साध्यता व स्केलेबिलिटी के मामले में वे कहा हैं। इसके बाद, एक स्टर्टप पिच कार्यक्रम भी होगा, जहां स्टार्टप अपने व्यापार मॉडल को प्च करेंगे, ताकि वे इंक्यूबेशन, निवेश व अन्य सहायताएं अर्जित कर सकें।

E-Summit के माध्यम से छात्रों को अनेकों आइडिया व प्रेरक कहानियां मिलेंगी। कार्यक्रम के दौरान, उद्यम में वैश्विक ट्रेंड, वैश्विक उद्यम से कदम मिला पाने के लिये भारतीय स्टार्टपों द्वारा झेली जा रही चुनौतियां व स्टार्टप ईकोसिस्टम के लिये रोड मैप के ऊपर चर्चा व वाद-विवाद किया जायेगा।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन