खबर गूगल

Google बदल सकता है, Play Store का यूजर इंटरफेस

लीजिये जनाब ! एक बार फिर तैयार हो जाईए Google द्वारा, Play Store के इंटरफेस का एक बदला रूप देखने के लिए | जी हाँ ! अब यह दिग्गज़ कंपनी Play Store में कुछ साधारण, लेकिन प्रभावी बदलवा लाने की तैयारी कर रही है और इसका नया रूप दुनिया भर में एक चयनित समूह इस्तेमाल भी कर रहा है |

परिवर्तन छोटे और साधारण तो हैं, लेकिन आपका ध्यान आकर्षित करने के लिए काफ़ी हैं | यह प्रतिक्रिया तब सामने आई, जब Google के एक Pixel Tips विडियो में एक नया उपयोगकर्ता इंटरफ़ेस देखने को मिला |  

अगर नई होम स्क्रीन की बात करें तो, अब इसके ऊपरी बार और आइकॉन में गहरे हरे रंगों को शामिल किया गया है, जो कि इसके पिछले अवतार से ज्यादा बेहतर नज़र आ रहा है | एप्लिकेशन हिंडोला में बदलाव लाते हुए, अब ऐप आपको सर्च बार के नीचे नज़र आयेंगे |

इसके अलावा, अब यह बैनर छवि के बजाय कार्ड के डिजाइन लेआउट के रूप में प्रदर्शित किया जाएगा | साथ ही मनोरंजन नामित श्रेणी की जगह अब सिनेमा, संगीत, किताबें आदि श्रेणियों को अंकित किया गया है, जो की अधिक सुविधाजनक प्रतीत हो रहा है |

सबसे महत्वपूर्ण परिवर्तन, इनस्टॉल बटन के रूप में slender और larger जैसी नई सुविधाएं हैं, जिनके परिणाम स्वरुप अब किसी एप्लिकेशन को इनस्टॉल करते वक़्त, स्क्रीन अपने आप फ़ैल जाएगी और आप उसकी डाउनलोड संख्या, रेटिंग संख्या आदि जानकारियाँ उसके नीचे ही अपनी स्क्रीन पर हासिल कर सकेंगे |

अब कुछ उपयोगकर्ता ऐप कार्ड पर तीन डॉट्स का प्रयोग कर, अतिप्रवाह मेनू पर ऐप के आकार संबंधी जानकारी भी हासिल करने में सक्षम होंगे | इस तरह आपको मुख्य पृष्ट खोले बिना यह जानकारियाँ हासिल होंगी और आपके समय की बचत भी होगी | और अब आप उपलब्ध छवियों / स्क्रीनशॉट को बड़ा करके भी देखने में सक्षम होंगे |

Play Store के यह नए परिवर्तन अभी भी, अपडेट के माध्यम से उपलब्ध नहीं हैं | Google अभी भी उपयोगकर्ताओं के लिए इस नए डिज़ाइन को मुहैया करवाने के प्रयास कर रहा है |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन