खबर

ISRO एक ही रॉकेट पर 83 उपग्रह लांच कर बनायेगा रिकॉर्ड

हम ISRO के एक के बाद एक कीर्तिमान स्थापित करने के इतने आदी हो गये हैं कि अगर भारतीय अंतरिक्ष शोध संस्थान एक दो सप्ताहों तक कोई घोषणा न करे तो अजीब ही लगता है। अब, ISRO एक साथ 83 उपग्रह उनकी कक्षा में स्थापित करने के साथ एक विश्व रिकॉर्ड बनाने के विचार में हैं, जो कि वे 2017 की शुरवात में एक ही रॉकेट पर लांच करेंगे।

मुद्दे पर बात करते हुए Antrix Corporation के चेयरमैन और मैनेजिंग निदेशक राकेश शशीभूषण ने कहा:

“2017 की पहली तिमाही में हम एक रॉकेट पर 83 उपग्रह लांच करने की योजना बना रहे हैं। अधिकतम विदेशी उपग्रह नैनो उपग्रह हैं।”

यदि आपको पता न हो तो हम बता दें कि Antrix Corporation दरसल ISRO का व्यावसायिक अंग है। और आप ज़रा भी ऐसा-वैसा सोचने की ग़लती न करें, क्योंकि यह भारतीय अंतरिक्ष एजंसी ने अपने विशेष व्यापार कौशल से अनेक निजी व्यापारों को भी शर्मिंदा कर रही है। कंपनी की ऑर्डर बुक में पहले ही ₹500 करोड़ के ऑर्डर हैं और वे ₹500 करोड़ के ऑर्डर लेन के विचार में हैं।

2017 में होने वाले इस नवीनतम मिशन में 83 उपग्रहों को एक ही ISRO रॉकेट से एक कक्षा में स्थापित किया जायोगा। एक ही कक्षा से चीज़ें बहुत आसान हो जाती हैं, क्योंकि रॉकेट के बार बार चालू-बंद होने की परेशानी नहीं रहती। परंतु इस मिशन में अलग प्रकार कि चुनौतयां होंगी, जिनमें से सबसे बड़ी होगी कि सारे उपग्रहों के कक्षा में प्रवेश करने होतु रॉकेट एक जगह पर टिका रहे।

जहां अंतरिक्ष में लांच हो रहे उपग्रहों का नाम गुप्त रखा गया है, ये ज़रूर कहा गया कि उनमें से कई ISRO के पुराने ग्राहक हैं।

एक साथ अनेकों उपग्रह लांच करना ISRO के लिये पहला प्रयास नहीं है। संस्थान ने पहले अनेक प्रोडक्टों पर कार्य कर रहे हैं, परंतु 83 एक बहुत ही बड़ी संख्या है। इस उद्देश्य के लिये PSLV-XL रॉकेट प्रयोग होगा और इसपर कुल 1600 किलो के करीब पेलोड होगा। इनमें से अनेक नैनो उपग्रह होंगे और जहां 81 विदेशी होंगे, दो भारतीय उपग्रह होंगे।

ये रॉकेट 2017 की पहली तिमाही में लांच होगा।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन