खबर

धोखाधड़ी की रिपोर्ट के बाद, सबसे पहले छात्रों के Debit cards को बदेलगा SBI

सुरक्षा भंग होने के कारण, कथित तौर पर प्रभावित 32 लाख डेबिट कार्ड को धोखाधड़ी जैसी घटनाओं से सुरक्षित करने की दिशा में क़दम उठाते हुए, भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने घोषणा की है कि यह सबसे पहले, छात्र खाता धारकों के डेबिट कार्ड को बदलने का कार्य करेगा |

बैंक का यह क़दम, उपयोगकर्ताओं की खर्च करने की आदतों पर आधारित है | छात्रों हमेशा से ही, नकद भुगतान की बजाए, कार्ड आधारित भुगतान के सबसे सक्रिय उपयोगकर्ताओं रहे हैं, और ख़ास तौर पर दिवाली जैसे मौसम के दौरान |

भारतीय स्टेट बैंक के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा,

“ छात्रों के लिए, उनके माता पिता द्वारा डेबिट कार्ड पर भेजा गया पैसा ही धन का पहला स्रोत है, हम अत्यधिक तेज़ी से कार्ड को बदलने की प्रक्रिया को सर्वोच्च प्राथमिकता दे रहे हैं, हम उन्हें अगले सप्ताह के अंत तक नए कार्ड प्रदान करने के प्रति आश्वस्त हैं ”

बैंक ने पहले से ही 6,00,000 डेबिट कार्ड को बदलने की प्रक्रिया शुरू कर दी है, जिन पर उसे ख़तरे में होने का संदेह है | इसके साथ ही बैंकों के लिए चिंता का एक विषय यह भी है कि प्रधानमंत्री जन धन योजना कार्ड भी इस उल्लंघन से प्रभावित हो सकतें हैं |

कार्ड नेटवर्क कंपनियों, NPCI, Mastercard and Visa द्वारा प्रदान की गई जानकारियों के अनुसार, भारत में कई कार्ड इस सुरक्षा उल्लंघन से गंभीर रूप में प्रभावित हुए हैं | हालांकि SBI ने एहतियाती कदम उठाते हुए, नेटवर्क द्वारा पहचाने गये कुछ कार्ड को ब्लॉक कर दिया है |

इस पर टिप्पणी करते हुए बैंक ने एक बयान में कहा,

“ किसी भी संभावित धोखाधड़ी से हमारे ग्राहकों की रक्षा करने के लिए यह एक सक्रिय उपाय है, और हम ग्राहकों के यह भी बता दें कि भारतीय स्टेट बैंक का मजबूत सिस्टम, पूरी तरह से सुरक्षित है, ग्राहकों अपने डेबिट कार्ड का सुरक्षित उपयोग जारी रख सकते हैं और यह कार्ड उद्योग में जनित घटना है, बल्कि न केवल एसबीआई में ”     

भारतीय स्टेट बैंक, इस वक़्त ब्लॉक किए गये कार्ड के ग्राहकों को बिना किसी शुल्क के, नए कार्ड जारी करने की प्रक्रिया में व्यस्त है | कार्डधारक शाखा का दौरा किए बिना SMS / IVRS / इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से पिन उत्पन्न कर सकते हैं | वैकल्पिक रूप से, कार्डधारकों को उनकी शाखा से भी यह प्राप्त हो सकता है |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन