खबर

शुद्ध लाभ में 4.3% की उछाल के बाद भी, TCS के लिए ‘असामान्य’ रही यह तिमाही

Tata Consultancy Services जो की TCS के नाम से लोकप्रिय है, भारत की प्रमुख आईटी कंपनियों Infosys, Wipro आदि में से एक है | हाल ही में आई रिपोर्ट के अनुसार, इस तकनीकी दिग्गज़ के दूसरी तिमाही के परिणाम इतने प्रभावशाली नहीं रहें हैं | हालांकि इसने विश्लेषकों की उम्मीदों से परे सफ़लता अर्जित की है, लेकिन राजस्व के मोर्चे पर परिणाम थोड़े कमज़ोर रहे |

अपनी ‘असामान्य’ दूसरी तिमाही में TCS मार्जिन और शुद्ध लाभ वृद्धि के आंकड़े को हराने में कामयाब रही, लेकिन आमदनी के विकास संबंधी अपेक्षाओं को पूरा करने में, इसके हाथ विफलता लगी है | कंपनी ने 6586 करोड़ रुपये (लगभग $987 मिलियन) का शुद्ध लाभ कमाया है, जो की पिछली तिमाही के 6,317 करोड़ रुपये के लाभ के आंकड़े से 4.3 प्रतिशत अधिक है |

इसके अलावा, राजस्व संख्या (Y-o-Y संख्या) में इसने 7.8 फीसदी की वृद्धि दर्ज़ की है, लेकिन यह पिछली तिमाही की तुलना में 0.1 फीसदी कम है | राजस्व के आंकड़े अब 29,284 करोड़ रुपये हैं, जो बाजार की अनुमानित विकास दर से कम हैं | वहीं कंपनी की प्रति शेयर आय, 33.43 रुपये रहने की सूचना है |

इसके अलावा, कंपनी का अनुक्रमिक विकास, पिछले वर्ष की तुलना में, धीमा रहा है और यह तिमाही सबसे धीमी तिमाहियों में से एक रही है | TCS के अनुसार, दूसरी तिमाही में विकास दर, स्थिर मुद्रा में 3.5 फीसदी की रही है | यह वृद्धि, यूरोपीय और एशिया-प्रशांत के बाजारों में इसके व्यापार के मजबूत होने के कारण हुई है, जबकि भारतीय और लैटिन-अमेरिकी बाज़ारों में इसको, उतार-चढ़ाव देखने को मिला है |

सितम्बर, 2016 से समाप्त हो रही इस तिमाही में कंपनी, ऑपरेटिंग मार्जिन 90+ आधार अंकों की वृद्धि के साथ 26 प्रतिशत तक पहुंचने और 6.1 प्रतिशत पर डिजिटल राजस्व अर्जित करने में कामयाब रही है | इस वृद्धि में विज्ञान और स्वास्थ्य संबंधी (4.7 फीसदी), ऊर्जा और उपयोगिताओं (3.6 फीसदी), विनिर्माण (3.1 फीसदी), यात्रा और आतिथ्य (2.3 फीसदी) और संचार (2 फीसदी) योगदान दिया |

दूसरी तिमाही के प्रदर्शन पर टिप्पणी करते हुए, TCS के सीईओ और प्रबंध निदेशक, एन चंद्रशेखरन ने कहा,

“ यह तिमाही TCS के लिए ‘असामान्य’ रही है, वातावरण में बढ़ती अनिश्चितताओं के कारण, ग्राहकों के बीच सावधानी का माहौल बना और जिसके ये परिणाम हुए,

और साथं ही, भारत और लैटिन-अमेरिका जैसे बाजारों में आये उतार-चढ़ाव ने भी, राजस्व वृद्धि को मौन रखा, हालांकि लाभप्रदता परिप्रेक्ष्य से यह एक अच्छी तिमाही रही, जहां कई विपरीत परिस्थितियों के बावजूद, हमारे अनुशासित दृष्टिकोण और संचालन के चलते, हम अच्छा प्रदर्शन कर पाए ”

TCS को यह विश्वास है कि वह अपने प्रतिद्वंदियों को हराने में कामयाब रहेंगी और साथ ही FY17 की तीसरी और चौथी तिमाही में पिछले आंकड़ों की अपेछा, अच्छा प्रदर्शन करेगी |

दूसरी ओर, एक और स्वदेशी दिग्गज़, Infosys ने अपने चिर प्रतिद्वंद्वी TCS की अपेछा बेहतर तिमाही परिणाम दियें हैं | कंपनी ने विश्लेषक अनुमान के अनुसार, परिचालन मुनाफे में 4.9 फीसदी की वृद्धि से अधिक ही अर्जित किया है | जहाँ Infosys ने अगली तिमाही के लिए अपनी उम्मीदों में कमी लाई है, वहीं TCS अभी भी भविष्य में अपने बेहतर प्रदर्शन को लेकर आश्वस्त है |

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रोद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं |

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह साफ़ तरह से स्पष्ट हो गया है, की प्रौद्योगिकी विकास हमारी मानवता को पार कर चुका है |
अल्बर्ट आइंस्टीन